आप का शक जानलेवा भी हो सकता है – मोहन और उसकी पत्नी की दर्द भरी कहानी

shak story in hindi
Share Button

अगर आप का रिस्ता किसी के साथ अच्छा है तो वह आप पर खुद से ज्यादा भरोसा करता है , इसके बदले में आप को भी उस इंसान पर उतना ही भरोसा करना चाहिए |
हम लोग अगर एक दूसरे पर भरोसा या विश्वास करना जब छोड़ देते है तब यह एक शक में बदल जाता है , जिसका इस दुनिया में कोई इलाज नहीं है | आज में आप लोगो को मोहन नाम के एक आदमी की कहानी बताता हु , जो बहुत ही अच्छा इंसान था लेकिन लोगो ने उसके भरोसे को तोड़ दिया |

नीम की डाल – एक शैतान बालक की कहानी

मोहन की नयी -२ शादी हुई थी , वह अपनी पत्नी से बहुत प्यार करता था और उसकी पत्नी भी उससे बहुत प्यार करती थी | दोनों एक दूसरे पर बहुत ही ज्यादा भरोसा करते थे
और अपनी हर बात एक दूसरे से जरूर शेयर करते थे | मोहन के दोस्तों को मोहन का मजाक करने में बहुत ही मजा आता था , लेकिन मोहन बेचारा कुछ भी नहीं बोलता था बस सुनकर रह जाता था | एक दिन की बात है मोहन अपने कुछ दोस्तों के साथ बागीचे में आराम कर रहा था , तभी एक दोस्त ने मजाक में पूछा और भाई भाभी जी का कोई चक्कर तो नहीं है न | यह सुनकर सब लोग हसने लगे , लेकिन मोहन को यह मजाक पसंद नहीं आया और वह अपने दोस्तों से बोला तुम लोगो को जो बोलना है मुझको बोलो , मेरी पत्नी को कुछ मत बोलो वह मुझसे बहुत प्यार करती है |

तभी एक दोस्त ने बोला भाई सुना है आज कल तुम्हारे बगल वाले करन का तुम्हारे घर में कुछ ज्यादा आना जाना लगा है , कही वह भाभी जी को पसंद तो नहीं करता | यह सब सुनकर मोहन वहा से चला गया और सोचने लगा , अब उसके मन में शक पैदा हो गया | वह अब अपनी पत्नी पर नजर रखने लगा और करन को भी देखने लगा |

एक दिन की बात है की मोहन की पत्नी और करन घर पर अकेले थे , करन , मोहन की पत्नी से रिमोट मांग रहा था तभी उसका पैर फिसल गया और वह मोहन की पत्नी के ऊपर जा गिरा | मोहन के हाथ में पानी की बोतल भी थी जो उसकी पत्नी पर गिर गया और वह पानी को साफ़ करने लगा | तभी अच्चानक मोहन आ गया और उसने देखा करन और उसकी पत्नी एक दूसरे से लिपट गए है , यह देख मोहन परेशान हो गया और उसको अपने दोस्तों से कही हुई बात याद आ गयी | उसने एक डंडे से करन के सर पर मारना स्टार्ट कर दिया और जब तक करन मर नहीं गया तबतक उसको मारता रहा , उसकी पत्नी ने उसको बहुत रोका लेकिन वह नहीं माना | मोहन ने अपनी पत्नी को खूब मारा , वह उसको चोर कर अपने माँ के घर चली गयी |

दो विकलांगो की कहानी

इधर मोहन भी बहुत परेशान रहने लगा , एक दिन मोहन घर की आलमारी पर राखी बुक को देखा तो उसपर करन का दिया हुवा गिफ्ट था , जिसपर लिखा था तुम्हारा भाई करन | यह पढ़ कर मोहन के होश उड़ गए , क्युकी मोहन की पत्नी का कोई भाई नहीं था और वह करन को अपना भाई मानती थी और उसको रक्षाबन्ध भी बांधा था | मोहन को अब समझ में आ गया की शक बहुत ही गलत लत है , शक की वजह से उसने अपनी पत्नी और घर सब को गवा दिया और प्यूरी जिंदगी भर जेल में चला गया |

दोस्तों अगर यह कहानी आप लोगो को अच्छी लगे तो जरूर शेयर करे , ताकि मोहन जैसे लोग सुधर जाये और करन जैसे निर्दोष लोग मारे न जाये |

Share Button

loading...
loading...

Related posts

Leave a Comment