तितली के संघर्ष की कहानी जो आप को सोचने पर मजबूर कर देगी

titli ke kahani
Share Button

बहुत समय पहले की बात है , अमन और लोकेश बहुत ही अच्छे दोस्त थे | अमन बहुत ही मेहनत करता था और हमेसा हर काम सही टाइम पर करता था जबकि लोकेश उसके विपरीत था और हर काम बहुत ही लेट करता था | वह बस यही चाहता था की सब कुछ बिना मेहनत के मिल जाये , लेकिन वह यह भूल गया था की जीवन में कठिन मेहनत करना जरूरी है | अगर आप ने अपने जीवन में स्ट्रगल नहीं किया तो आप जीवन का मतलब ही नहीं समझ पावोगे |

मोंटी हिरण और बंटी भालू की कहानी

एक दिन की बात है लोकेश बगीचा में अकेले ही बैठा था , तभी उसकी निगाह पेड़ पर एक तितली पर गया | उसी पेड़ पर टहनी से लटकता हुआ एक तितली का कोकून दिखाई , (तितली का अंडा , जिससे उसके बच्चे निकलते है ) | तितली बहुत ही संघर्ष कर रही थी लेकिन वह अपने अंडे से बाहर नहीं निकल पा रही थी | लोकेश यह सब बहुत ध्यान से देख रहा था , उसको बहुत ही मजा आ रहा था | थोड़ी देर बाद शाम हो गयी वह अपने घर चला गया | अगले दिन जब वह फिर आया तो देखा तितली अभी भी अपने अंडे से बाहर निकलने के लिए संघर्ष कर रहा था | कुछ देर वह देखता रहा , जब उसी रहा नहीं गया तो वह घर जाकर एक कैंची लाकर उसकी लेयर काट दिया और वह तितली बाहर आ गयी | वह बहुत खुश था की उठने तो बहुत ही अच्छा काम किया है , लेकिन जब बहुत टाइम हो गया तो वह सोचने लगा की यह तितली उड़ क्यों नहीं पा रहा है | उसने अमन को भी बुलाया और उसको सारी बात बताया , अमन उसकी बात सुनकर बोला तुम ने यह बहुत ही गलत किया है | तुमको ऐसा नहीं करना चाहिए , इस पर लोकेश को गुस्सा आ गया और बोला मैंने क्या गलत किया है |

पतंग से सीख – सागर और उसके पिता जी की कहानी

फिर अमन ने उसको बताया की यह एक प्राकृतिक तरिका है तितली का अंडे से बाहर आने का , जब तितली अपने अंडे के झिल्ली से बाहर आने का संघर्ष करता है तब उसका पंख मजबूत होता है और वह आसानी से उड़ सकता है | लेकिन अगर वह संघर्ष नहीं करता है तो उसके पंख उड़ने लायक नहीं होते है , जैसा की इस तितली का है | यह सुनकर लोकेश को बहुत दुःख हो रहा था की उसने ऐसा क्यों नहीं किया , लेकिन एक बात और जो थी की लोकेश अब यह जान चूका था की जीवन में संघर्ष करना बहुत ही जरूरी है | नहीं तो आदमी कमजोर हो जाता है और जीवन में आगे नहीं जा पाता है |

इस कहानी से हम लोगो को यही सीख मिलती है की अपने जीवन में अगर आप ने संघर्ष नहीं किया तो कुछ नहीं किया | कियुकी आप जीतना संघर्ष करोगे उतना ही आप अपने अंदर से मजबूत बनोगे | इस कहानी पर आप लोग कमेंट जरूर करे |

Share Button

loading...
loading...

Related posts

Leave a Comment