मोंटी हिरण और बंटी भालू की कहानी

bhalu aur hiran ke kahani
Share Button

मोंटी हिरन जैसे ही स्कूल पंहुचा , बंटी भालू अपने दोस्तों के साथ उसका मजाक उड़ाने लगा | अरे देखो फटीचर की खटारा आ गयी , यह सुनकर उसके सारे दोस्त हशने लगे | उसकी बात सुनकर भी मोंटी कुछ नहीं बोला और अपनी साइकिल खड़ी करके अपनी क्लास में चला गया |
मोंटी अभी नया – नया स्कूल में आया था , वह एक गरीब परिवार से था | मोंटी का घर स्कूल से काफी दूर था , इसलिए वह बहुत ही मुश्किल से अपने लिए एक पुरानी साइकिल ले पाया था

कोयल और बगुला की कहानी

बंटी हमेशा दूसरे बच्चो के सामने अपनी अमीरी का रोब दिखाता रहता था , वह अपने घर से खर्च करने के लिए बहुत सारे पैसे लेकर आता था |इस कारन से सारे बच्चे उसके आगे – पीछे घूमते थे | बंटी को फ़ास्ट फ़ूड खाने की आदत सी बन गई थी और वह जब मोंटी की दाल रोटी खाते देखता तो बहुत हे मजाक करता था , लेकिन मोंटी उसके मजाक का बुरा नही मानता था | मोंटी उसको समझाता था के तुम को भी मेरी तरह घर का खाना , खाना चाहिए नहीं तो तुम और मोटे हो जाओगे |

इन्साफ -इंग्लैंड के बादशाह हेनरी की कहानी

मोंटी पढने में बहुत ही अच्छा था , धीरे – धीरे सारे लोगो का फेवरेट बन गया | समय बीतता गया और एक दिन मोंटी ने देखा की बंटी स्कूल नहीं आया और वह लगातार कुछ दिन तक स्कूल नहीं आया | कुछ दिन बाद जब बंटी स्कूल आया तो बिलकुल मोटा सा हो गया था , अब सब लोग उसको मोटू कहकर बुलाने लगे | यह सुनकर उसको बहुत बुरा लगता था , वह मोंटी के पास गया और उससे माफी माँगा और बोला में पहले की तरह फिर से होना चाहता हु | मोंटी ने बोला हो जावोगे लेकिन तुमको मेरी सारी बात माननी पड़ेगी | बंटी बोला जरूर मानूँगा , मोंटी बोला तुम घर रिक्शा से नहीं साइकिल से जाया करो और फ़ास्ट फ़ूड खाना बंद कर दो | बंटी ने ऐसा ही किया और कुछ महीनो बाद वह एक दम सही हो गया और मोंटी को धन्यवाद दिया |

Share Button

loading...
loading...

Related posts

Leave a Comment