कुछ याद उन्हें भी कर लो जो लौट कर घर न आये – अमर शहीदों की कहानी

कुछ याद उन्हें भी कर लो जो लौट कर घर न आये – अमर शहीदों की कहानी
Share Button

देश की आजादी के लिए अपना सर्वस्व नैछावर करने वाले अमर शहीद भगत सिंह , सुखदेव व राज गुरु को 1930 मे फाँसी का दंड मिला था | इन युवको को छुड़ाने के लिए हाई कोर्ट मे अपील की गयी परन्तु वह अमान्य हो गयी | प्रीवी कौंसिल मे भी अपील की गयी लेकिन कुछ नहीं हुवा | सरदार भगत सिंह तो ऐसी अपील के विरुद्ध थे | वह वीर तो मौत को भी हँसते – हँसते निमंत्रण देता था | फाँसी का दिन २४ मार्च सन 1931 को तय…

Share Button
Read More