दाने -२ पर खाने वाले का नाम लिखा है- Hindi motivational story do not hate anyone

दाने -२ पर खाने वाले का नाम लिखा है- Hindi motivational story do not hate anyone
Share Button

दाने -२ पर खाने वाले का नाम लिखा है- एक सेठ जी अपने आगन मे बैठे -२ कुछ सोच रहे थे , तभी एक साधु वहा से निकाला , उसने सेठ जी से कहा – कुछ खाने को मिल जाएगा | सेठ जी बोले – जाओ – जाओ साधु बोला खाने के लिए कुछ दान ही दे दो | सेठ जी बोले – दाने मुफ़्त मे नही आते है, बच गये तो बुलाकर दे दूँगा | साधु बोला- एक आदमी सारे दाने कैसे खा सकता है, दाने- दाने पर खाने…

Share Button
Read More

डर इन्सान को कमजोर बना देता है – Guru Bhakti motivational story

डर इन्सान को कमजोर बना देता है  – Guru Bhakti motivational story
Share Button

एक आश्रम था , वहा गुरु जी के कई शिष्य थे | जो गुरु जी के बताए कार्यो को तुरंत कर दीया करते तथा गुरु जी की हर बात  का आदर करते थे | लेकिन सागर नाम का एक शिष्य ऐसा भी था , जो बहुत ही आलसी था , गुरु जी का कोई कार्य नही करता था | प्रतिदिन गुरु जी सागर को समझाते और कहते – चलो तुम अपनी आदत से बाज नही आते तो कोई बात नही …लेकिन मंदिर जाकर भजन आदि तो किया करो, इससे हो…

Share Button
Read More

एक फ़कीर की कहानी – A paralyzed man story in Hindi

एक फ़कीर की कहानी – A paralyzed man story in Hindi
Share Button

एक फ़क़ीर था ,उसके दोनों बाज़ू नहीं थे। उस बाग़ में मच्छर भी बहुत होते थे। मैंने कई बार देखा उस फ़क़ीर को। आवाज़ देकर , माथा झुकाकर वह पैसा माँगता था। एक बार मैंने उस फ़क़ीर से पूछा – ” पैसे तो माँग लेते हो , रोटी कैसे खाते हो ? ” उसने बताया – ” जब शाम उतर आती है तो उस नानबाई को पुकारता हूँ , ‘ ओ जुम्मा ! आके पैसे ले जा , रोटियाँ दे जा। ‘ वह भीख के पैसे उठा ले जाता है…

Share Button
Read More

एक शराबी की कहानी

एक शराबी की कहानी
Share Button

एक शराबी जो की बहुत ही ज्यादा पीता था | उसके पीने की वजह से उसका घर बर्बाद हो रहा था , घर के सभी लोग उससे बहुत जी ज्यादा परेसान थे | एक दिन उसको किसी आदमी ने एक संत के बारे मे बताया और बोला उनके पास जाओ वो तुम्हारी शराब को छुरा देंगे | वह अगले दिन सुबह उस संत के पास पंहुचा और बोला बाबा मे अपनी शराब से बहुत ही परेसान हो गया हु , इसकी वजह से मेरा घर बर्बाद हो जा रहा है…

Share Button
Read More

कर्तव्य -श्री ईश्वरचंद विद्यासागर जी से सीख

कर्तव्य -श्री ईश्वरचंद विद्यासागर  जी  से सीख
Share Button

इंग्लैंड मे एक जगह पर एक विशाल सभा की तैयारियां चल रही थी | भारतीय विद्वान भी अपने समय पर सभास्थल पर पहुच गए | यह क्या कोई सभास्थल पर नहीं बैठा था | भाषण सुनने आयी भीड़ भी एक तरफ खड़ी थी | भारतीय विद्वानों ने आयोजको से पूछा – यह भीड़ एक तरफ क्यों खड़ी है , सभास्थल पर क्यों नहीं बैठी | आयोजको ने उत्तर दिया – सफाई कर्मचारी अभी तक आये नहीं है | इसलिए सफाई न होने के कारन ये लोग एक तरफ खड़े है…

Share Button
Read More