गुस्से से गुस्से की तकरार हो गयी – एक बहुत ही सुन्दर कविता

गुस्से से गुस्से की तकरार हो गयी – एक बहुत ही सुन्दर कविता
Share Button

गुस्से से गुस्से की तकरार हो गयी– गुस्से से गुस्से की तकरार हो गयी जिह्वा भी गुस्से की ही भेंट चढ़ गयी एक गुस्से में बोले एक तो दूजा चार बोलता जिह्वा बेचारी सबके सामने शर्मसार हो गयी | गुस्से से गुस्से की तकरार हो गयी …………   गालियां  बकते एक दूजे को अचानक आपस में ही मारामार हो गयी एक ने चलाया हाथ दूजा करे पैर से वार देखते देखते कुटमकाट हो गयी | गुस्से से गुस्से की तकरार हो गयी ……….   एक ने सर फोड़ा तो दूजे…

Share Button
Read More