जब पापा की आँखे भर आयी | छोटी बच्ची और गोल गप्पे वाले की कहानी

जब पापा की आँखे भर आयी  | छोटी बच्ची और गोल गप्पे वाले की कहानी
Share Button

पापा के पास बस दस रूपया ही बचा था , उनको घर भी जाना था जो पैसा किराये में लग जाता । सामने एक बहुत ही अच्छा बंदा था जो की गोल गप्पे बेच रहा था । मैंने अपने पापा से जिद कर दिया और उनसे बोला मुझको गोल गप्पे खाने है । मै भी साथ में खड़ा था और सब कुछ देख रहा था । लड़की के पापा ने पूछ लिया भाई पांच रुपए के दस मिल जायेगा .गोल गप्पे वाले ने बोला नहीं मिलेगा । इतने में सिर्फ…

Share Button
Read More