कैंसर से पीड़ित एक छोटी बच्ची की इमोशनल कहानी

कैंसर से पीड़ित एक छोटी बच्ची की  इमोशनल  कहानी
Share Button

सही कहा गया है की इंसान के जीवन में हर समय एक जैसा नहीं होता है , कभी उसको कुछ करना होता है कभी उसको कुछ और ही मिल जाता है | आज मैं आप लोगो को एक ऐसी कहानी सुनाने जा रहा हूँ , जिसको सुनकर आप लोगो का मन मचल जायेगा | रमन और उसकी पत्नी दोनों एक साथ एक छोटे से शहर में रहते है और दोनों बहुत ही खुश है | दोनों की एक छोटी सी बेटी भी है जिसका नाम रीमा है | आज शाम…

Share Button
Read More

हमसफ़र क्या चीज है बुढ़ापे में समझ आएगा | कहानी एक बार जरूर पढ़े |

हमसफ़र क्या चीज है बुढ़ापे में समझ आएगा | कहानी एक बार जरूर पढ़े |
Share Button

मुझे अगले संडे को किटी पार्टी में जाना है सुदेश,तुम तो जानते हो मेरी फ्रेंड्स किटी में कितनी सज सवंर कर आती है …और मैंने तो अभी तक भी शॉपिंग नहीं की है….. रागिनी आईना के सामने खड़ी होकर साड़ी के पल्लू अपने कंधे पर सलीके से जमाते हुए बोली…., सुदेश इस बार मैं किटी शॉपिंग के लिए बहुत लेट हो गयी हूँ…. और किटी के बाद मुझे कच्ची बस्ती के बच्चों के पास भी जाना है…वहाँ मैं कुछ न्यूज़ पेपर वालो को भी बुलाऊंगी अगले दिन के न्यूज़ पेपर…

Share Button
Read More

बढ़ई और लोहार की कहानी जो आप का दिल जख्झोर देगी

बढ़ई और लोहार की कहानी जो आप का दिल जख्झोर देगी
Share Button

चंदनपुर गांव में एक बढ़ई रहता था , गावं में सही काम न मिलने के कारन वह अपने गावं से कुछ दूर एक सेठ जी के यहाँ काम करता था | वह अपनी आरी से ही काम करता था , एक दिन उसकी आरी टूट गयी और अब वह सोचने लगा की कैसे कमाऊंगा | जहा वह काम करता था वही से थोड़ी ही दूर पर एक लोहार का घर था जो की लोहे का काम करता था | बढई अपनी आरी लेकर उसके पास पंहुचा और बोला मेरी आरी…

Share Button
Read More

एक बूढ़े पिता की कहानी जो आप को सोचने पर मजबूर कर देगी

एक बूढ़े पिता की कहानी जो आप को सोचने पर मजबूर कर देगी
Share Button

रामगोपाल शहर में नौकरी करता था और अपनी पत्नी के साथ वही रहता था | एक दिन उसके पिता जी भी उसके पास पहुंच गए , पहले तो रामगोपाल और उसकी पत्नी बहुत ही खुश हुए | लेकिन जब उनको मालूम पड़ा के पिता जी अब यही रहेंगे तो उनको बहुत ही चिंता होने लगी | उनके पास एक रूम और किचन के साथ बरामदा था | रात को सब लोग डिनर बारामदे में ही करते थे , रामगोपाल के पिता जी कभी कुर्सी पर बैठ कर खाना नहीं खाया…

Share Button
Read More