एक मास्टरनी की कहानी |

एक मास्टरनी की कहानी |
Share Button

मैं और पिताजी चुपचाप माँ का दैनिक प्रवचन सुन रहे थे, “आप हमेशा उसका पक्ष लेते हैं। विनोद से क्या‌ कहें,वो तो है ही बीवी का गुलाम! एक काम ढंग से नहीं करती, बस पर्स लटकाया और चल दीं स्कूल। हर बात पर जवाब देती है। बहुत तेज़ है मास्टरनी!” मैं समझ नहीं पाती थी कि माँ को क्या खराब लगता है?भाभी का पर्स लटकाना, गलत बात पर जवाब देना या ‘मास्टरनी’ होना? घर के काम करती हैं, सबका ध्यान रखती हैं, फिर भी? 1- में तो ज्ञान का प्यासा हूँ…

Share Button
Read More

भक्त नीलांबरदास और मल्लाह की कहानी |

भक्त नीलांबरदास  और मल्लाह की कहानी |
Share Button

भगवान जगन्नाथ के भक्त नीलांबरदास रहते तो उत्तर प्रदेश में थे, किंतु उनका हृदय उड़ीसा के जगन्नाथ भगवान ने चुरा लिया था।एक दिन धन-संपत्ति, स्त्री-पुत्र सबको ठोकर मार जगन्नाथ भगवान के दर्शन के लिए निकल पड़े।चलते-चलते गंगा तट पर पहुँचे, एक मल्लाह बीच गंगा में नौका पर बैठा मछली पकड़ रहा था।नीलांबरदास ने उसे पुकारा और बोले- भाई ! मुझे गंगा पार करा दो, भाड़े की चिंता न करना। मल्लाह लालची था, उसने सोचा यात्री के पास काफी धन है, वह नौका किनारे ले आया। नीलांबरदास भगवान जगन्नाथ के नाम…

Share Button
Read More

एक औरत और तीन साधु की कहानी

एक औरत और तीन साधु की कहानी
Share Button

बहुत समय पहले की बात है , एक औरत थी जिसका एक छोटा सा घर था और उस घर में उसके दो बच्चे और अपने पति के साथ रहती थी । एक दिन की बात है की वह बाहर जा रही थी , तभी उसको अपने घर के सामने तीन रंग बिरंगे साधु दिख गए । उनको देख कर वह कुछ भी बोली नहीं और  चुप – चाप जाने लगी , तभी उनमे से एक साधु ने बोला क्या हमको आप के घर में खाना मिलेगा । वह बोली क्यों…

Share Button
Read More