आत्महत्या को क्यों कायरता कहा जाता है ।

sucide ko kaise kam kare
Share Button

 

आत्महत्या एक ऐसी चीज है , जो इंसान अपने होश में नहीं करता है । इंसान कभी – कभी बहुत ही परेसान हो जाता है और उसको समझ में कुछ नहीं आता है और वह आत्महत्या कर लेता है ।
क्या यह सही है ?
मेरे अनुसार तो यह बिलकुल भी सही नहीं है , मानव जीवन में अगर आप को सुख और दुःख दोनों का अनुभव न हो तो आप बोर हो जावोगे और जीवन जीने का मजा ख़तम हो जाता है । हम सब लोग परेशानी से आत्महत्या करने के बारे में सोच लेते है , क्या आप को पता होता है अगर आप ने ऐसा कर लिया तो सिर्फ आप अपने आप को नहीं मारते हो बल्कि अपने साथ आप कई और लोगो को जिन्दा मार देते हो ।

शहर के लोगो की सच्चाई – जो आप की आँख खोल देगी

जब कभी आप के मन में इस तरह की बात आये के आज मैं आत्महत्या कर लूंगा तो सबसे पहले कुछ टाइम घूम कर आये और अपने उस दोस्त के पास जाये जो आप की हर तकलीफ को समझता हो और आप को कुछ अच्छा बता सके । ऐसे लोगो के पास बिलकुल भी मत जाये जो आप के पैसे से दोस्त है ।

आत्महत्या करके आप अपनी परेशानी से मुकत नहीं हो पावोगे , बल्कि आप को एक अच्छा उपाय सोचना चाहिए की इस परेशानी से कैसे बचा जाये । आत्महत्या इस बात का प्रमाण है की आप कायर हो जो अपनी जिम्मेदारी को निभा नहीं पाए और आप ने अपनों को देखा दे दिया ।

ट्रेन के भिखारी की मोटिवेशनल कहानी

आज कल के लड़के और लड़किया भी बहुत ज्यादा ऐसा कर रहे है , अगर किसी लड़की को कोई लड़का धोखा दे देता है तो लड़की आत्महत्या कर ले रही है और अगर लड़की , लड़के को धोखा दे देती है तो लड़का आत्महत्या कर लेता है । यह बिलकुल भी गलत है , एक इंसान के चले जाने से आप के सारे रिश्ते थोड़ी न ख़तम हो जाते है । मैं यह भी मानता हूँ की क्कुह टाइम आप को अच्छा नहीं लगेगा , लेकिन यही वह टाइम होता है जब आप को हिम्मत से काम लेने की जरुरत होती है । अगर आप एक इंसान की वजह से आत्महत्या कर लेते हो तो यह बात हो गयी की आप को अपने घर वालो का बिलकुल भी चिंता नहीं है । आप को अपनी माँ की चिंता नहीं जिसने आप को जन्म दिया ।

भाग्य और मेहनत में कौन बड़ा है – मोटिवेशनल सोच

यह पोस्ट अगर आप को अच्छी लगी हो तो कुछ लोगो के साथ जरूर शेयर करे और इस बात को जान ले जो आत्महत्या के बारे में भी सोचे वो बुजदिल और कायर है ।

Share Button
loading...
loading...

Related posts

Leave a Comment