किसान और पत्थर की कहानी – Story of kishan and stone

Share Button

बहुत समय पहले की बात है सोहन नाम का एक किसान अपने खेतो में बहुत ही मेहनत से काम करता था | सोहन की एक बहुत ही बड़ी समस्या यह थी की वह किसी भी काम को बहुत बड़ा बना देता था , चाहे वह काम बहुत छोटा ही क्यों न हो | सोहन अपने खेतो में हल चलाने का काम करता था , उसके खेत में एक पत्थर था | सोहन बहुत बार काम करते वक़्त उससे टकरा जाता था , कभी – कभी उसका हल भी टूट जाता था | जो पत्थर था वो खेत के एकदम बीच में था और बहुत ही परेशान करता था सोहन को |

लंदन के राष्ट्रपति लार्ड वेलिंगटन के सफलता की कहानी

एक दिन की बात है , दोपहर का टाइम था सोहन अपने खेतो में हल चला रहा था | तभी वह गिर पड़ा उस पत्थर से टकरा कर , उसको बहुत ही ज्यादा गुस्सा आया | वह अपने गांवों में गया और सब लोगो से बोला मुझको अपने खेत से आज उस बड़े पत्थर को निकाल कर फेक देना है | सबलोग सोहन के खेत में पहुंच चुके थे , तभी एक आदमी ने एक कुदार मारा पत्थर पर और वह निकल कर बाहर आ गया | यह देख सबलोग वही पर हसने लगे और सोहन का मजाक बनाने लगे | सोहन को भी बहुत ही अफ़सोस हो रहा था , की उसने कभी भी उस पत्थर को उखाड़ने की कोसिस ही नहीं किया |

कर्तव्य -श्री ईश्वरचंद विद्यासागर जी से सीख

इसी तरह हमारी जिन्दगी में भी होता है की हम लोग अपनी समस्या से भागते है , हम लोगो को पहले सब कुछ जान लेने के बाद ही कुछ करना चाहिए |
यह कहानी आप को कैसी लगी कमेंट करके बताये |

Share Button
loading...

Related posts

Leave a Comment