नया सवेरा – एक अशिक्षित गावं की कहानी

illiterate-village-people
Share Button

`लहर गावं के  लोग बहुत ही सीधे साधे थे | पढ़ाई – लिखाई से कोसो दूर , उनके लिए कला अक्षर भैंश बराबर था |साहूकार उनकी इस कमजोरी का फायदा उठा रहा था , कहने को वह साहूकार था लेकिन बहुत ही लालची था |जरुरत पड़ने पर वह गावं वालो के घर- जमीं आदि गिरवी रख कर उच्ची ब्याज दर पर रकम उधार दे देता था | झूठी लिखा पढ़ी पर वह उनसे अंगूठा लगवा लेता था , एक बार उधार ले लेने पर गावं वाले उसके कर्ज से हमेसा दबे रहते थे |

कोयल और बगुला की कहानी

राजन सिंह की गावं मई एक छोटी सी दूकान थी , थोड़ा हिसाब -किताब करना जानता था |ईमानदारी से चार पैसा कमा कर अपने परिवार का भरण – पोसण करता था और खुश रहता था | पढ़ा – लिखा होने की वजह से  वह धनपत की काली करतूतो को जानता था | एक दिन सरपच के पास जाकर उसने धनपत साहूकार की शिकायत की , सरपंच खुद धनपत की बेईमानी का बराबर का हिसेदार था | उसने राजन सिंह की बात को अनसुना कर दिया | परेसान होकर राजन सिंह जिला मुख्या अधिकारी के पास जाने का फैसला किया |उसने उनके पास जाकर कहा श्रीमान – गावं का सरपंच और साहूकार मिलकर गावं वालो को लूट रहे है |वो दोनों दिन  पर दिन अमीर होते जा रहे है और गावं वाले गरीब होते जा रहे है , उनकी सारी कमाई सूद भरने मे ही खत्म हो जा रही है | जिला अधिकारी ने राजन की बातो को ध्यान से सुना , उसने अपने दो कर्मचारियों को धनपत साहूकार और सरपंच की चुप- चाप जांच – परताल करने के लिए भेज दिया | कर्मचारियों ने आकर बताया की राजन सिंह की बात सही है | जिला अधिकारी ने तुरंत दोनों की शिकायत पुलिस अधिकारी से की , दोनों को बंदी  बनाकर अदालत मे पेश किया गया |जज ने फैसला सुनाया की – धनपत साहूकार और सरपंच ने गावं वालो से जालबाजी की है और उनका पैसा वापिस करे |

जज के फैसले से राजन सिंह और और गावं वाले बहुत ही खुश थे , अब जिला अधिकारी ने आदेश दिया की हर गावं मे एक  बाल बिद्यालय खोला जाई और उसमे अच्छे टीचर राखी जाये |

कैसे अपने अंदर की मानवता को जगाए

यह सुनकर राजन सिंह हैरानी से पूछने लगा श्रीमान – अपराधियो को तो सजा मिल गयी अब बिद्याले ओपन करने से क्या लाभ होगा |जिला अधिकारी बोले – राजन सिंह गावं के लोग सीधे – साधे और बहुतलोग अनपढ़ है , धनपत और सरपंच को  सजा देने से समस्या मिट नहीं जाएगी | अनपढ गावं वालो को कोई भी ठग सकता है इसलिए सब  को पढ़ना जरुरी है | राजन सिंह यह सुनकर बहुत खुश हुआ और बोला आप ने तो बहुत दूर  तक सोच कर काम किया है | राजन सिंह भाउक हो गया और उसकी आँखों मे अंशु आ गया और बोला अब उसके गावं मे अज्ञानता और अन्धकार नही रहेगा ,एक नया सवेरा सारे गावं को खुशियो से भर देगा |

दोस्तों हमको इस कहानी से यही सीख मिलती है की पढ़ाई – लिखाई कभी बेकार नहीं जाती है | अगर आप को कहानी अच्छी लगी तो शेयर जरूर करे |

Share Button

loading...
loading...

Related posts

2 thoughts on “नया सवेरा – एक अशिक्षित गावं की कहानी

  1. thanks to share , great website

    1. hindibabu

      A lot of Thanks Anil je

Leave a Comment