तूफ़ान और किसान के संघर्ष की कहानी

poor farmer story in hindi
Share Button

एक गावं था जिसमे एक बहुत ही अच्छा किसान रहता था , लेकिन कभी भी उसकी अपने फसल से खुश नहीं रहता था | कभी ज्यादा ठण्ड हो जाने से उसकी फसल ख़राब हो जाते तो कभी बारिश और तूफान खराब कर देते थे | वह बहुत ही दुखी रहने लगा और एक दिन मंदिर जाकर भगवान से बोला – हे भगवान् कभी तो मौसम हमारे मन के अनुसार कर दो | भगवान ने बोला – ठीक है तुम्हारे गावं में जैसा तुम चाहोगे वैसा ही मौसम होगा , अब क्या था किसान बहुत ही खुश हो गया |

घमंड – चुनमुन, मीकू और चीकू की कहानी

अब जब वो चाहता तब उसके खेतो में बारिश होती और जब वो चाहता तो धुप होती , ऐसा करते ही कुछ वक़त बीत गया | उस किसान ने अपने खेतो में कभी भी तूफ़ान नहीं आने दिया और वह बहुत ही खुश था की इस बार तो खेतो में बहुत ही अच्छी फसल लग गयी है और मुझको तो मजा आ गया | अब वह समय आ गया था की फसल को कटा जाये , वह सुबह – सुबह अपने खेतो में फसल काटने के लिए पहुंच गया | लेकिन फसल को छू कर देखा तो वह हैरान रह गया , उसने देखा की गेहू के तो बीज ही नहीं है | सब खोखला है , वह बहुत ही मायूस हो गया और फिर मंदिर में भगवान के पास जाकर बोला आप ने ये क्या कर दिया | इस पर भगवान ने बोला – मैंने तो कुछ नहीं किया , इस बार तो जैसा तुम चाह रहे थे वैसा ही हुवा तो अब तुम को क्या परेशानी है |

गुलाब के फूलो के बलिदान की कहानी

किसान ने बोला – मेरी सारी फसल तो बहुत ही अच्छी है लेकिन उसमे बीज खोखले है | इस पर भगवान ने बोला – तुम ने तूफ़ान तो लाया ही नहीं जिसके कारन तुम्हारा बीज कमजोर रह गया और बड़ा होने पर वह खोखला हो गया है | अगर तुम तूफ़ान लाते तो ये सब और मजबूत हो जाते और साथ में कुछ और लोगो को मजबूत कर देते , क्युकी तूफ़ान से लड़ने की ताकत सब बीज में नहीं होती है , जो तूफ़ान में गिर जाते है वो तो नस्ट हो जाते है | लेकिन जो तूफ़ान में बच जाते है वो मजबूत होते है | अब किसान को बात समझ आ गयी थी उसने भगवान से माफी माँगी और चला आया |

दोस्तों हम सब के जीवन में भी ऐसा ही होता है , अगर हम तूफ़ान से दर गए तो कुछ नहीं कर पाएंगे और अगर हम तूफ़ान से लड़ कर खड़े रहे तो बाहर कुछ कर ले जायेंगे |

Share Button

loading...
loading...

Related posts

Leave a Comment