देश के लिये बलिदान – श्री लाल बहादुर शास्त्री जी की कहानी

lal bahadur shastree je
Share Button

यह बात उस समय की है जब लाल बहादुर शास्त्री रेल मंत्री थे | एक स्टेशन मास्टर ने एक राज्य मंत्री की बात नहीं मानी तो उन्होंने उसका तबादला कर देने की धमकी दी | उन्होंने इसके लिये लाल बहादुर शास्त्री जी से सीकायत की और उस स्टेशन मास्टर को हटाने की बात बोली लेकिन शास्त्री जी ने उससे कहा की पहले मे इसकी जाच करवाऊंगा और तब आप को बताऊंगा  और जाच मे  पता चला की स्टेशन मास्टर निर्दोष है | राज्य मंत्री जी के लाख कोसिस करने के बाद भी उसका तबादला नहीं हुवा |

डाकू से सीख – एक बालक की कहानी

पंडित जवाहर लाल नेहरू उस टाइम देश के प्रधानमंत्री थे , किसी तरह से मंत्री जी ने अपनी बात उन तक पंहुचा दिया | नेहरू जी ने शास्त्री जी से बात किया और उनसे जबाब माँगा | शास्त्री जी ने कहा – वह स्टेशन मास्टर निर्दोष है और गलती मंत्री जी की है | वह उसका तबादला कभी नहीं करेंगे , इससे और कर्मचारी ऐसा ही करेंगे और हमारा सिस्टम ख़राब हो जायेगा | शास्त्री जी के इस आत्म विश्वाश को देख कर नेहरू जी बहुत खुश हुवे | और उनके इस नेक काम के लिये उनको धन्यवाद दिया |

 

परिश्रम का फल – जार्ज स्टीफेंस की कहानी

 

Share Button

loading...
loading...

Related posts

Leave a Comment