राजा और गमले की कहानी |ईमानदारी का फल |

Share Button

बहुत ही समय पहले की बात है एक राजा था जो की बहुत ही ईमानदार था और अपनी सी ईमानदारी के लिए उसकी प्रजा उसको भगवान् मानती थी | लेकिन राजा अब बूढ़ा हो चूका था और उसको कोई संतान नहीं थी और वह यही सोचता था की कौन उसका उत्तराधिकारी बनेगा | समय बहुत तेजी से बदल रहा था और राजा ने सोच ही लिया की इस राज्य के ही किसी को उत्तराधिकारी बनाऊंगा | इसके लिए राजा ने अपने राज्य के सभी होनहार बच्चो को बुलाया और बोला मई आप लोगो को एक – एक बीज देता हूँ आप लोगो का यह बीज ले जाकर गमले में उगाना है और चार महीने बाद हम सब लोग फिर इकठा होंगे और उनमे से ही कोई राजा बनेगा |

सब बच्चे बहुत ही खुश थे और सब राजा बनाने के लिए ही कड़ी मेहनत करने लगे , उनमे से एक लड़का था जिसका नाम अनय था और वह अपनी माँ के साथ आया और घर पर गमले में बीज को लगा दिया और हर दिन उसकी सेवा करता | जब एक महीना बीत गया और अनय के गमले से कोई पौधा ही नही निकला तो वह परेशान होने लगा क्युकी उसके साथ वालो के गमले से तो पौधे बड़े होने लग थे | वह मन ही मन सोचने लगा हो सकता है मेरा बीज कुछ और टाइम लेगा उगने में और वह हर दिन उसकी सेवा करता था ,ऐसा ही करते – करते चार महीना पूरा होने को आ गया और बीज ऊगा ही नहीं , जो भी बच्चा उसका गमला देखता वह हसने लगता | अनय को भी बहुत ही शर्म आ रही थी की अब वह राजा को क्या बोलेगा \ उसने सोच ही लिया की वह राजा के पास नहीं जायेगा और बोल देगा की वह बहुत ही बीमार है | लेकिन उसकी माँ ने उसको खूब समझाया और बोला की तुमको जाना ही पड़ेगा | अपनी माँ के जिद के आगे उनकी एक भी नहीं चली और वह बीज का गमला लेकर चल दिया |

सब लोग उसके गमले को देख कर है रहे थे , सबका गमला हरा भरा था और बहुत ही सुन्दर था | अनय यह देख कर बहुत ही निराश हो गया और अपने गमले के साथ नीचे ही बैठ गया | थोड़ी ही देर में राजा भी आ गया और बोला सब लोग अपने गमले के साथ आये है न , सब लड़के बहुत ही खुश थे और बोले जी राजा जी |

राजा नीचे आया और सबका गमला देखने लगा , तभी उसकी नजर अनय पर पड़ी और बोला इनकी तरह कोई और है जिनके गमले से कोई पौधा ही नहीं निकला | सब हसने लगे और बोले नहीं कोई ही नहीं है , उसके बाद राजा ने अनय को बुलाया और बोला तुम इधर आवो | राजा की बात सुनकर अनय डर – डर कर धीरे – धीरे चलने लगा , राजा ने देख लिया और बोला डरो मत तुम ही अगले राजा हो | राजा की यह बात सुनकर सब लोग हैरान रह गए , सब बोलने लगे यह तो गलत है | राजा ने बोला था जिसके गमले से पौधा आएगा वही राजा बनेगा | राजा ने फिर बोला – आप लोगो को जो बीज मिला था वह बंजर था आप कुछ भी कर लेते उससे कभी पौधा बनता ही नहीं | आप सब लोगो में अनय ही एक ऐसा लड़का था जिसने बीज को बदला नहीं और मेहनत करता रहा | बाकि सब लोगो ने चोरी की है और अनय एक ईमानदार लड़का है और राजा बनने के सारे गुड़ है |

इसलिए हम लोगो को भी ईमानदारी से काम करना चाहिए | अगर आप लोगो को यह कहानी अच्छी लगे तो जरूर शेयर करे |

एक जंगली  डाकू की प्रेरक कहानी 

साधु के वेश में शैतान को कैसे जाने

गरजने वाले कभी बरसते नहीं है

Share Button
loading...

Related posts

Leave a Comment