ज्ञान और अनुभव कोई भी नही छीन सकता है – एक राजा और पंडित की कहानी

pandit and king story in hindi
Share Button

 

ज्ञान और अनुभव कोई भी नही छीन सकता है

एक बार एक राजा किसी पंडित से नाराज़ हो गया और उसने अपने सिपाहियो से बोला -इस पंडित की सारी संपति नीलम करवा दो , जो पैसा मिले उस को राज कोष मे जमा किया जाए|

राजा की नाराज़गी से वह पंडित बहुत दुखी हुआ और घबरा गया ,जैसे – तैसे घर जाकर अपने पत्नी से बोला-कल राजा हमारी सारी संपति नीलम करवा देगा , अब हम क्या करेंगे |

पंडित जी की पत्नी उनके समान पढ़ी-लिखी नही थी,फिर भी वह चालक थी | उसने पति को समझाने के उद्देश्य से कहा- क्या कल राजा आपको भी बिकवा देंगे ?

पंडित जी वैसे ही दुखी थे ,अपनी पत्नी को ऐसे टाइम मे ऐसे सवाल का उत्तर देने मे वह चिढ़ गये और बोले-तुम तो पागल हो , राजा संपति ही नीलम करवायगे, मुझे क्यू बिकवा देंगे भला ?”

यह सुनकर पंडित की पत्नी ने बोला – तो क्या मुझको और बच्चो को नीलम करवायंगे ? यह सुनकर पंडित जी और परेसान हो गये , लेकिन अपने गुस्से पर नियंत्र कर बोला – नही तुम लोगो को भी नही |

पत्नी ने फिर बोला- तो क्या आप के अनुभव , ज्ञान ,और सद्गुरो को भी वह नीलम कर देंगे ?

पंडित जी पत्नी की नादानी पर सिर पीटते हुए बोला- इनको तो राजा क्या कोई भी नही कर सकता है |

पंडित जी के जबाब देते ही वह बोली-तो फिर हमे क्या डर है ? जब हमारे भीतर अमूल्य रत्न है ,हमारे पास वो हमेसा बने रहेंगे , तो यह संपाति भले ही चली जाए , इसका क्या दुख करना ?

पत्नी की बाते सुनकर पंडित जी की आँखे खुल गयी ,अब उनको यह पता था की उनके पास ऐसा अमूल्य रतन है जो कोई भी नही छीन सकता है|

तो दोस्तो हमारे ज्ञान को कोई भी नही छीन सकता है , इसलिय हॅमेसा अपने ज्ञान और अनुभव को खुब increase करो |

Share Button

loading...
loading...

Related posts

One thought on “ज्ञान और अनुभव कोई भी नही छीन सकता है – एक राजा और पंडित की कहानी

Leave a Comment