दया के सागर न्यूटन की कहानी – Newton Ocean of Mercy Story

newton pic
Share Button

दया के सागर न्यूटन  की कहानी

संसार का हर बड़ा आदमी सदाचारी होता है ,सदाचारी आदमी कभी कोई ऐसा काम नही करता जिससे किसी को भी दुख पहुचे | न्यूटन , संसार के एक बहुत ही बड़े वैज्ञानिक थे |उन्होने एक कुत्ता पाल रखा था ,वे उस कुत्ते से बहुत प्यार करते थे | कुत्ता भी अपने मालिक से बहुत प्यार करता था , वह अपने मलिक पर जान देने को हॅमेसा रेडी रहता था |

एक रात न्यूटन महोद्य कुछ लिख रहे थे ,लिखने मे वो  ध्यानमगन थे |एक उनकी लिखी बुक भी पास मे थी, वाहा पास मे मेज पर कुत्ता भी बैठा हुआ था उसके सामने एक मोमबती जल रही थी |

अचानक ही लिखते -लिखते न्यूटन जी कोई बात याद आ गयी और वो कुछ टाइम के लिए रूम से बाहर चले गये | उनके जाने के बाद कुत्ता अचानक हुई आहट से चोक कर भौंकने लगा , इस उठा- पटक मे मेज पर जल रहे मोमबती पास रखी बुक पर गिर पड़ी |मोमबति गिर जाने से बुक मे आग लग गयी और कुछ ही देर बाद पूरी बुक जल कर राख हो गयी |

न्यूटन को दूसरे ही दिन उस बुक को प्रेस मे छापने के लिए देना था , जब वह रूम मे आए और बुक को जला देख चौक गये , फिर नॉर्मल होकर कुर्सी पर बैठ कर लिखने लगे |

न्यूटन की जगह और कोई भी होता तो कुत्ते को जान से मार देता पर न्यूटन जी ने अपने कुत्ते को कुछ भी नही बोला , वह जानते थे की उनका बहुत बड़ा नुकसान हो गया है | लेकिन उन्होने मूक पीड़ा से पीड़ित अपने कुत्ते की आँखो मे आंशू देख कर प्यार से उस के सिर पर अपना हाथ फेरा |

दोस्तो न्यूटन जी मे दया कूट-कूट कर भरा था |

Share Button

loading...
loading...

Related posts

Leave a Comment