घमंडी मेंढक की सोच बदल देने वाली कहानी

mendak ke kahani in hindi
Share Button

बहुत समय पहले की बात है एक मेंढक एक बहुत बड़े कुएँ में रहता था , वह अपने आप को बहुत ही चालक समझता था । लेकिन वह चालक नहीं था , वह जिस कुएँ में रहता था वह बहुत बड़ा था , इसलिए उसको कभी भी दर नहीं लगता था और उसको यही लगता था की पूरी दुनिया अब यही पर है । यहाँ से आगे कुछ भी नहीं है ,लेकिन समय बदलता गया और एक टाइम की बात है की खूब बारिश होने लगी , मेढक बहुत ही खुश था की चलो बारिश हो रही है । लेकिन जब बारिश कुछ और दिन तक होती रही तो मेंढक को चिंता होने लगी की अjब तो कुँवा का पानी भर रहा है ।

देखते ही देखते कुवे का पानी इतना भर गया की मेढक अपने आप बाहर आ गया और बाढ़ के पानी से बहकर बहुत ही दूर चला गया । जैसे ही वह बाहर आया उसने देखा की यह दुनिया बहुत ही बड़ी है और यहाँ पर बहुत कुछ है , वह यहाँ पर किसी को भी नहीं जानता है । उसको बहुत ही अच्छा लग रहा था , लेकिन साथ में उसको बाहर की दुनिया के बारे में कुछ पता भी नहीं था और वह मन ही मन खूब पछता रहा था की काश मैं भी इस कुवे से बाहर आ कर देख लेता तो सही होता और बहुत कुछ सीख जाता ।

बड़ी सोच – एक टिफिन वाले की कहानी

दोस्तों इस कहानी से हम लोगो को यही सीख मिलता है की अगर आप अपने जीवन में कुछ करना चाहते हो तो अपने आप को घर से बाहर निकालो और कुछ कर के दिखावो । अगर आप ऐसा नहीं करते हो तो आप भी वही कुवे के मेंढक की तरह रह जावोगे और अपने जीवन में कुछ भी नहीं कर पावोगे । जीवन का हर पल बहुत ही कीमती है , इसका सही से उपयोग करो तभी आप एक सफल इंसान बन सकते हो नहीं तो आप कुछ नहीं कर सकते हो ।

तूफ़ान और किसान के संघर्ष की कहानी

जब भी आप कुछ अलग करना चाहोगे तो आप के जीवन में बहुत ही परेशानिया आएंगी , लेकिन आप लोगो को बिलकुल भी घबराने की जरुरत नहीं है । डट कर उसका सामन करो और अपने आप को कुछ बनकर दिखा दो ताकि लोग समझ जाये की आप भी बहुत कुछ कर सकते हो । लोगो की बात को सुनकर अपने आप को अकेला मत महसूस करे , लोगो का काम है कुछ न कुछ बोलना , आप को बस अपने काम से मतलब रखना चाहिए । तभी आप आगे जावोगे नहीं तो इन सब चीजों में फास कर आप अपना समय बर्बाद कर लोगे और अपने जीवन काम में कुछ भी नहीं कर पावोगे ।

अगर आप लोगो को यह पोस्ट अच्छा लगा हो तो अपने दोस्तों के साथ इस कहानी को जरूर शेयर करे ।।धन्यबाद ।।

Share Button
loading...
loading...

Related posts

Leave a Comment