आम के पेड़ की मोटिवेशनल कहानी

maxresdefault
Share Button

एक राजा था जो की बहुत हे ज्यादा अपनी प्रजा के सुख और दुःख में हमेसा शामिल रहता था । एक दिन उसने सोचा चलो चलकर राज्य में देखा जाये की लोग क्या कर रहे है । यही सोच कर अगले ही दिन राजा ने एक नार्मल आदमी का भेष बनाकर अपने राज्य में घूमने लगा । वह घूम ही रहा था की उसकी नजर एक बूढ़े आदमी पर पडी जो की कोई काम कर रहा था ।

राजा उस बूढ़े आदमी के पास गया और बोला आप यह क्या कर रहे हो ?
बूढ़े आदमी ने राजा को जबाब दिया – मैं पेड़ लगा रहा हूँ ।

रानी पदमावती की असली कहानी जो आप नहीं जानते है

राजा ने पूछा – यह किसका पेड़ है ?
बूढ़े आदमी ने जबाब दिया – आम का पेड़ है ।

उसकी बात सुनकर राजा ने बोला यह आम का पेड़ कबतक फल देने लगेगा । राजा की यह बात सुनकर वह बूढ़ा आदमी हसने लगा और बोला यही कुछ आठ दस सालो में ।
बूढ़े आदमी की बात सुनकर राजा ने बोला – तब तक तो आप जियोगे भी नहीं तो यह पेड़ आप क्यों लगा रहे हो । तब उस बूढ़े आदमी ने बोला – जब मैं जवान था तब मैंने भी बहुत आम खाया था और उसमे से कोई भी आम का पेड़ मैंने नहीं लगाया था , हमारे बड़ो ने हमारे लिए यह काम किया था । जिसका फल मुझको मिल रहा था , यही सोच कर मैं भी लगा रहा हूँ और कभी – कभी दुसरो के लिए भी जी लेना चाहिए । हर बात में अपना मतलब नहीं साधना चाहिए । यह पेड़ जब बड़ा होगा तो मेरे बच्चे कहेंगे की मेरे दादा जे ने मेरे लिए कुछ किया है । उस बूढ़े आदमी की बात सुनकर राजा भावुक हो गया और उसको गले से लगा लिया ।

दिल को छू लेने वाली कहानी

तो दोस्तों इस कहानी से हम लोगो को यही सीख मिलती है की हर चीज अपने मतलब से ही नहीं करनी चाहिए । कभी दुसरो के लिए भी कुछ कर के देखो बहुत ही खुशी मिलती है ।।

Share Button

loading...
loading...

Related posts

Leave a Comment