एक गौरैया की प्रेम कहानी- Love story of sparrow and white Rose

Share Button

 

एक गौराया थी जो एक सफेद फूल से प्यार करती थी लेकेन सफेद फूल गौराया से प्यार नही करता था , उस ने बोला जब वह लाल हो जाएगा तब उस से प्यार करेगा लाकिन ऐसा मुस्किल था की सफेद फूल लाल हो जाए , लेकेन गौराया सफेद फूल से बहुत प्यार करती थी , उस ने बहुत कोसिस की लकीन सफेद फूल लाल नही हुआ !

स्वामी विवेकानंद के बचपन की कहानी

एक दिन गौराया के मन मे एक विचार आया की उस को अपने प्यार के लिया कुछ भी करना है उस ने अपने बॉडी को सफेद फूल के काटो से फाड़ डाला और अपने खून को सफेद फूल के अप्पर गिरा दिया , अब सफेद फूल लाल हो गया , लकेन गौराया अब मर चुकी थी ! सफेद फूल को पुरी लाइफ अफ़सोस होता रहा की कास मैने ऐसा मत बोला होता तो आज गौराया जींदा होती !
तो दोस्तो इस प्यार की कहानी से हम को यही सीख मिलती है की कभी भी अपने प्यार पर सक नही करना और ऐसा कुछ मत बोल देना की वो आप को दुबारा ना मिले !

कबीर जी और उनके गुरु की तर्क कहानी

आप को हमारी ये love story कैसी लगी comment plz.

Share Button
loading...

Related posts

Leave a Comment