एक राजा की प्रेम कहानी (A King Love Story in hindi)

king-love-story
Share Button

बहुत समय पहले की बात है एक राजा था और उसकी तीन पत्निया थी | राजा अपनी पहली पत्नी से बहुत प्यार करता था , वह अपनी दूसरी पत्नी को एक दोस्त की तरह मानता था और जब भी उसको कोई परेसानी होती थी तो वह अपनी पहली पत्नी से सुझाव लेता था | राजा अपनी तीसरी पत्नी से प्यार नहीं करता था लेकिन उसकी तीसरी पत्नी उसको बहुत प्यार करती थी | राजा हमेसा अपने कामो मे बहुत ही बिजी रहता था |

पिता और पुत्र की रोचक कहानी

एक दिन राजा की तबियत बहुत ही खराब हो गयी और उसके बचने की बहुत ही कम उम्मीद रह गयी | राजा की एक इच्छा थी की वह अकेले नहीं मरना चाहता था | उसने अपनी पहली पत्नी को बुलाया और बोला तुम मेरे साथ ऊपर भगवान के पास चलो , यह सुनकर वह बोली मे आप के साथ नहीं जाउंगी | मे अभी जीना चाहती हु |

उसके बाद राजा ने अपनी दूसरी पत्नी को याद किया , जब उसने सुना की उसके पति उसको अपने साथ ले जाना चाहते है तो वह उनसे जाकर बोली – मे अभी जवान हु , में आप के साथ नहीं जाउंगी और आप के मर जाने के बाद में दूसरी शादी कर लूंगी | यह सुनकर राजा बहुत ही दुखी हुवा और मन ही मन बहुत उद्दास हो गया और अपनी तीसरी पत्नी को तो बुलाया ही नहीं | वह सोच ही रहा था की उसकी तीसरी पत्नी खुद चलकर आ गयी और बोली में आप के साथ चलूंगी |

एक भिखारी की दर्द भरी कहानी

उसकी बात सुनकर राजा बहुत ही खुश हुवा , लेकिन फिर बहुत ही निराश हो गया और बोला मैंने पूरी जिन्दगी तुम को प्यार नहीं किया और आज तुम ने मेरे साथ चलने का वचन दे दिया | में अपने आप को कभी माफ़ नहीं कर पाउँगा ऐसा राजा ने कहा | इस कहानी से हमें यही सीख मिलती है की प्यार उससे करो जो आप को प्यार करता हो , उससे नहीं जिससे आप करते हो |

Share Button

loading...

Related posts

7 thoughts on “एक राजा की प्रेम कहानी (A King Love Story in hindi)

  1. Dnyaneshwar kale

    Khup Sunder..kahani

  2. Sunil kumar

    Nice line

    1. hindibabu

      thanks sunil je

  3. Ravindra Nishad

    Very very nice history

Leave a Comment