जब मन न लगे तब क्या करे |

kaise apne man ko lagaye
Share Button

बहुत टाइम हम सब लोगो के साथ ऐसा होता है की हम सब लोग बोर हो जाते है और तब हम सब लोगो से यही बात बोलते है की आज मेरा मन नहीं लग रहा है | मन न लगने का एक और भी कारण हो सकता है वो है आप किसी चीज को लेकर बहुत जायदा सोच रहे हो | एक चीज हमने सायद नहीं सोचा है जब हम लोगो का मन किसी भी काम मई नहीं लगता है तो हमको वो सब चीज अच्छी लगती है , जो हमने पहले कभी किया ही नहीं है | इसका मतलब यही है की हम लोगो को कुछ नई चीज करना अच्छा लगता है | यह मानव जीवन है कभी खुसी मिलती है और कभी गम मिलता है , इसी चीज को हम लोग जीवन कहते है | अगर सब कुछ अच्छा रहा तो आप के जीवन में निराशा आ जाएगी और आप जीवन का मतलब ही नहीं समझ पावोगे |

हम सब लोगो का मन बहुत ही चंचल होता है और इसके ऊप्पर काबू पाना बहुत ही मुश्किल है | हम सब लोगो को जरुरत है अपने विचलित मन को काबू में करना | जिस दिन हम सब लोग इस बात को समझ जायेंगे उस दिन हम सब लोग शांति से रह पाएंगे | जीवन में हमेसा कुछ न कुछ नई चीज को करने की कोसिस करना चाहिए तभी आप का मन हमेसा लगा रहता है | जो चीज आप के मन को बार – बार दुःख दे उस चीज को आप को हमेसा के लिए भुला देना ही हमारे लिए बेहतर होता है | नहीं तो यही चीज एक दिन हमारी सबसे बड़ी कमजोरी बन जाती है और हम लोग इस चीज को समझ नहीं पाते है |

इंसान की सबसे बड़ी ताकत होती है उसकी हिम्मत और जिस दिन वह अपनी हिम्मत से हार जाता है वो जीवन से हार जाता है | इसलिए हम सब लोगो को अपने आप पर भरोषा रखना चाहिए तभी हम सब लोग सफल हो पाएंगे और अपने मन को काबू में ला सकेंगे |

कभी – कभी हम लोगो को बच्चो के साथ भी खेलना चाहिए जब हमारा मन न लगे इससे हम लोगो को अपना खुद का बचपन भी याद आ जायेगा और कुछ अलग भी ह जायेगा | आप इस ऊप्पर लिखी बात को गौर करेंगे तो आप को सब कुछ समझ में आ जायेगा |

पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करे |

– संत का वचन – एक सेठ की कहानी

– सहानुभूति और पैसा – दो दोस्तों की कहानी

– कायरता – एक अनोखी कहानी

– क्रूर डॉक्टर और दयावान तांत्रिक की कहानी

Share Button
loading...
loading...

Related posts

Leave a Comment