कैसे अपने अंदर की मानवता को जगाए

good nature
Share Button

आप कभी ठंडे दिमाग से सोचिए की मनुष्य को इस धरती पर क्यों भेजा गया है , क्या जरुरत थी , क्या भगवान के पास शुद्ध आत्माओ की कमी है ,जी नहीं |
भगवान ने इसलिए भेजा है की जाओ एक पूर्ण रूप से शुद्ध मनुस्यता का जीवन जीकर तुम अपने आप को मुक्ति पा लो , तब आप को चऔरासी लाख योनियों मे भटकना नहीं पड़ेगा |इसलिए हे मनुस्य जहां तक हो सके मनुस्यता के पथ पर चलते रहना , लाख कठिनाई ,लाख संकट , लाख बुरा विचार मन मे आये तो उसे हमेशा झाड़ू लेकर कमरा साफ़ करने की तरह , हमेशा अपने मन रूपी कमरा साफ़ रखो | हमारा दावा है की अगर मनुस्य यह सोच ले की मरना तो है ही |

राखी की लाज – एक बीर बालक की कहानी

awake

लेकिन जबतक जियो हस कर जियो , सुख हो या दुःख हंस कर झेलो , जो आज गरीब है , वह कल अपने कर्मो से धनवान जरूर होगा और जो धनवान है अगर अपने धन का सही उपयोग नहीं किया तो उसका पतन अवस्य होगा |

यह सुन्दर विचार डॉक्टर रामप्रकाश प्रजापति जी ने हम को मेल किया है , आप भी अपनी स्टोरी या अनमोल विचार हम को मेल कर सकते है नीचे दी गयी जीमेल id पर

Email me-prajpatidk1992@gmail.com

Share Button

loading...
loading...

Related posts

2 thoughts on “कैसे अपने अंदर की मानवता को जगाए

  1. […] कैसे अपने अंदर की मानवता को जगाए […]

Leave a Comment