गाँधी जी की महानता की कहानी – Gandhi je ke mahanta Story In Hindi

gandhi je story
Share Button

गाँधी जी की महानता-

एक राजा की प्रेम कहानी

एक बार गाँधी जी रेल की यात्रा कर रहे थे | उनके पास ही एक आदमी बैठा था जो बार -बार सीट के नीचे थूक रहा था| गाँधी जी ने उसको समझाया -“देखो भाई ये रेल सरकारी सम्पति है , इस पर सभी का समान अधिकार है |” इस पर सभी आदमी यात्रा करते है | आप के ऐसा करने से दूसरे आदमी को परेसानी हो सकती है | उस आदमी पर गाँधी जी की बातो का कोई प्रभाव नही हुआ, बल्की उसने उल्टे गाँधी जी को ही झिरक दिया |

कबीर जी और उनके गुरु की तर्क कहानी

अब वह जिद्दवश बार बार थूकने लगा |गाँधी जी ने उस आदमी से बिना कुछ कहे चुपचाप उठ कर साफ कर देते थे | अंत मे जब ट्रेन स्टेशन पर पहुची तो उस आदमी को मालूम हुआ की वह आदमी जो बार बार उसका थूक साफ कर रहा था , वह आदमी महात्मा गाँधी जी ही थे |यह जानकर उस आदमी के होश ऊड गये , उसने गाँधी जी के पैरो मे गिर कर माफी माग ली , गाँधी जी ने उस आदमी को उठा कर गले लगा लिया |

तो दोस्तो आदमी अपने कर्म से महान होता है ना की पैसा से |

Share Button

loading...
loading...

Related posts

One thought on “गाँधी जी की महानता की कहानी – Gandhi je ke mahanta Story In Hindi

  1. बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति … शानदार पोस्ट …. Nice article with awesome depiction!! :) :)

Leave a Comment