पिता और बेटी की सबसे अच्छी कहानी – Father and Daughter Emotional Kahani

father and daughter story in hindi
Share Button

एक बहुत ही सुंदर सी राजकुमारी थी , उसको गुस्सा बहुत ज्यादा आता था | उसके गुस्से से घर के सारे लोग बहुत ही परेशान रहा करते थे , लेकिन उसका गुस्सा कभी कम ही नहीं होता था | एक दिन जब घर के सारे लोग उससे परेशान हो गए तो सबने मिलकर उसके पिता को यह बात बताया| उसके पिता जी जब यह बात सुने तो उनको भी बहुत ही ज्यादा दुःख हुवा , उन्होंने ठान लिया की अब इसका गुस्सा कम करने का कोई न कोई रास्ता निकालना पड़ेगा | एक दिन उसने पानी बेटी को बुलाया और बोला मे आप के साथ एक गेम खेलना चाहता हू | लडकी बहुत ही ज्यादा खुश हो गयी और बोली क्यों नहीं पिता जी | उसके पापा ने बोला – तुमको जब भी किसी पर गुस्सा आएगा तुम दीवार पर एक कील ठोक देना और जिस दिन गुस्सा न आये दीवार की एक कील निकाल देना | लडकी ने बोला ठीक है पापा , लेकिन आप को गेम जीतने के बाद बहुत ही अच्छा सा गिफ्ट देना होगा || उसके पापा बोले ठीक है |

 पंडित जी की महानता जो दिल को छू गयी

पहले ही दिन लडकी को खूब गुस्सा आया और उसने दस कील दीवार मे लगा दिया | अगले दिन कुछ और , फिर धीरे – धीरे घर के बहुत सारे लोग उससे बात करना बंद कर दिया | अब वह बहुत ही शांत रहती थी और कुछ टाइम बीत जाने के बाद उसका गुसा कम होते गया और अब वह एक – एक करके सब कील निकालने लगी | ऐसा करते – करते काफी टाइम बीत गया और एक दिन सब कील दीवार से नीकल गयी और अब उसका गुस्सा भी बहुत कम हो चूका था |
जब सब कील नीकल गयी तो वह एकदम बदल चुकी थी और अपने पापा के पास जाकर बोली पापा मे तो यह गेम जीत गयी | तो उसके पापा ने समझाया की बेटी देखो जो कील तुमने दीवार पर लगाया था और अब नीकाल दिया वहा कितना दरार पद गया है | इसी तरह तुम जब भी किसी से गुस्सा करती हो तो समझ लो की तुम अपने रिश्ते मे एक दीवार खड़ी कर देती हो |लड़की को यह बात समझ आ गयी थी और वह रोते हुवे बोली यही है मेरा सबसे बड़ा गिफ्ट , अब मे किसी पर भी गुस्सा नहीं करूँगा |||

तो दोस्तों इस कहानी से हम लोगो को यही सीख मिलता है की गुस्सा इंसान को कुछ भी करा सकता है , इसलिए गुस्सा को छोड़ देने मे ही भलाई है ||अगर आप लोगो को यह कहानी अच्छी लगी हो तो कमेंट जरुर करे |||

तूफ़ान और किसान के संघर्ष की कहानी

Share Button

loading...
loading...

Related posts

Leave a Comment