कौवा से सीख – HIndi Best Moral Kahani

crow story in hindi
Share Button

अगर आप को कुछ अलग करना है तो आप को उसी तरह से अपनी सोच को रखना पड़ेगा । यह दुनिया कर्म की है और अगर आप अच्छा काम करोगे तो उसका रिजल्ट अच्छा होगा और अगर आप सही काम नहीं करोगे तो उसका रिजल्ट बहुत ही बुरा होगा ।

आज की कहानी यह है की एक कौवा था , जो की बहुत ही प्यासा था और दूर – दूर तक उसको कुछ भी नजर नहीं आ रहा था । तभी वह सोच चलो कही और चल कर देख लेते है , पानी नहीं मिला तो भी मरना है और कोसिस कर लेते है अगर मिल गया तो जरूर जी लेंगे । वह यह सब सोच ही रहा था की उसको एक बहुत बड़ा घड़ा दिखाई दे दिया ।

आत्महत्या को क्यों कायरता कहा जाता है ।

पहले तो वह बहुत ही खुश हो गया की चलो पानी मिल गया , लेकिन थोड़ी देर बाद वह निराश हो गया । क्युकी उस घड़े में बहुत ही कम पानी था जो की उसकी चोंच तक नहीं पहुंच पा रहा था , थोड़ी देर सोचने के बाद उसको एक उपाय समझ में आया और वह चला गया । वह दूर – दूर से जाकर कंकड़ लेकर उस घड़े में डालने लगा और तब तक डाला जबतक पानी ऊपर नहीं आ गया और जब पानी ऊपर आ गया तो वह बहुत ही खुश हो गया और पानी पी कर उड़ गया ।

शहर के लोगो की सच्चाई – जो आप की आँख खोल देगी

इस कहानी से हम लोगो को सबसे बड़ी सीख यह मिलता है की अगर आप लगातार बिना डरे और बिना रिजल्ट की परवाह किये काम करोगे तो आप जरूर जीतोगे । जो लोग ऐसा नहीं करते है वही लोग सफल नहीं हो पाते है और हमेसा रट रहते है की मैं कुछ कर नहीं पाया । इस कहानी में अगर वह कौवा कंकड़ नहीं डालता तो पानी ऊपर नहीं आता और वह पानी के बिना मर जाता । इसलिए आप लोग भी मेहनत करने से कभी भी भागो मत , क्युकी डर के आगे ही जाट है और आप को इस डर को दूर करना ही पड़ेगा ।।
पोस्ट अच्छा लगा हो तो शेयर जरूर करे ।

।।

Share Button
loading...
loading...

Related posts

Leave a Comment