पंद्रह अगस्त क्यों मनाया जाता है| About Independence Day In HIndi

पंद्रह अगस्त क्यों मनाया जाता है| About Independence Day In HIndi
Share Button

पंद्रह अगस्त क्यों मनाया जाता है हम सब लोगो को यह बात बहुत ही अच्छे से पता है | यही वह दिन था जब अंग्रेज भारत को छोड़ कर भाग गए थे और उनको लगा था की अब हम और कुछ नहीं कर सकते है | इसी दिन को हम सब लोग आजादी का दिन मानते है | १५ अगस्त १९४७ को हमारा देश हमेसा के लिए आजाद हो गया था और तब से हम सब लोग अपनी आजादी का दिन बहुत ही धूम धाम से मानते है और मनाये…

Share Button
Read More

क्रांतिकारी रामप्रशाद बिस्मिल की कहानी

क्रांतिकारी रामप्रशाद बिस्मिल  की कहानी
Share Button

क्रांतिकारी रामप्रशाद बिस्मिल कारावास मे सजा भुगत रहे थे | अंग्रेजो ने उनको फांसी की सजा सुना दी थी , रामप्रशाद जी बहुत ही हिम्मत वाले क्रांतिकारी थे | उन्होंने दुसमन के  सामने कभी भी हार नहीं मानी | एक दिन उनके माता – पिता उनसे मिलने जेल मे गए , माता – पिता को देख कर बिस्मिल  की आँखों मे आँशु आ गए | परिश्रम का फल – जार्ज स्टीफेंस की कहानी उनकी आँखों मे आँशु देख उनकी माँ ने कहा – ये क्या तुम्हारा इंकलाब खत्म हो गया…

Share Button
Read More

कुछ याद उन्हें भी कर लो जो लौट कर घर न आये – अमर शहीदों की कहानी

कुछ याद उन्हें भी कर लो जो लौट कर घर न आये – अमर शहीदों की कहानी
Share Button

देश की आजादी के लिए अपना सर्वस्व नैछावर करने वाले अमर शहीद भगत सिंह , सुखदेव व राज गुरु को 1930 मे फाँसी का दंड मिला था | इन युवको को छुड़ाने के लिए हाई कोर्ट मे अपील की गयी परन्तु वह अमान्य हो गयी | प्रीवी कौंसिल मे भी अपील की गयी लेकिन कुछ नहीं हुवा | सरदार भगत सिंह तो ऐसी अपील के विरुद्ध थे | वह वीर तो मौत को भी हँसते – हँसते निमंत्रण देता था | फाँसी का दिन २४ मार्च सन 1931 को तय…

Share Button
Read More

दूसरों की मदद कैसे करे | How To Help Everyone

दूसरों की मदद कैसे करे | How To Help Everyone
Share Button

गोपाल एक बहुत ही बिजी इंसान था , लेकिन उसको इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता था की कोई मरे या जीए | वह बस अपने ही मस्त रहता था और हमेसा ही दुसरो को गाली सुनाता रहता था | बड़े दिन हो गया था और वह अपनी पत्नी के साथ कही बाहर नही गया और ऑफिस के काम से बोर हो गया था फिर क्या था ऑफिस से दो दिन की छुट्टी लेकर उसने प्लान बनाया की आज वो अपनी पत्नी के साथ बाहर डिनर के लिए जायेगा…

Share Button
Read More

गरीबी को कैसे दूर करे |

गरीबी को कैसे दूर करे |
Share Button

गरीबी कई तरह से होती है , किसी के पास पैसा नही है तो वो पैसो से गरीब है | किसी के पास उसके अपने नहीं है तो उनके याद में उसको सब बेकार लगता है | कोई इंसान जन्म से ही अमीर नहीं पैदा होता है | अगर आप को अमीर बनना है तो आप को सबसे पहले जो है वो मेहनत करना सीखना होगा तभी आप कुछ कर सकते हो | गरीबी एक ऐसी चीज है जो इंसान को तोड़ कर रख देती है , पेट पालने के…

Share Button
Read More

पेड़ लगावो जीवन बचावो | जानो कैसे ?

पेड़ लगावो जीवन बचावो | जानो कैसे ?
Share Button

हम सब लोग यह चाहते है की हमेशा ताजी हवा ले , लेकिन हम लोगो में कोई भी यह नहीं चाहता है की हम पेड़ को लगाये | आज हर तरफ हमारा पर्यावरण दूषित हो गया है और इसकी पूरी जिमेदारी हम लोगो पर ही जाती है | आज हम लोग यह बोलते है की हम सब कुछ ताजा खा रहे है , लेकिन आप सब कुछ ताजा खा कर क्या करोगे जब आप ताजी हवा नहीं खा सकते हो | हम सब लोग यह भी देख सकते है की…

Share Button
Read More

राजा और गमले की कहानी |ईमानदारी का फल |

राजा और गमले की कहानी |ईमानदारी का फल |
Share Button

बहुत ही समय पहले की बात है एक राजा था जो की बहुत ही ईमानदार था और अपनी सी ईमानदारी के लिए उसकी प्रजा उसको भगवान् मानती थी | लेकिन राजा अब बूढ़ा हो चूका था और उसको कोई संतान नहीं थी और वह यही सोचता था की कौन उसका उत्तराधिकारी बनेगा | समय बहुत तेजी से बदल रहा था और राजा ने सोच ही लिया की इस राज्य के ही किसी को उत्तराधिकारी बनाऊंगा | इसके लिए राजा ने अपने राज्य के सभी होनहार बच्चो को बुलाया और बोला…

Share Button
Read More

सावन की यह कहानी जरूर पढ़े | क्या आप को पता है की सावन क्यों मनाया जाता है |

सावन की यह कहानी जरूर पढ़े | क्या आप को पता है की सावन क्यों मनाया जाता है |
Share Button

जब – जब सावन का महीना आता है हम सब लोग बहुत ही खुश हो जाते है | सावन का महीना बहुत ही अच्छा मौसम होता है , कभी तेज बारिश तो कभी धीरे – धीरे चारो तरफ हरियाली ही हरियाली होती है | सावन का महीना भगवान् शिव का महीना भी कहा जाता है , सब लीग इस महीने में शिव जी की पूजा अर्चना करते है | कहा यह भी जाता है की जो लोग सावन के महीने में भोले बाबा का सही से पूजा करते है उनकी…

Share Button
Read More

जाने गुरु पूर्णिमा क्यों मनाया जाता है |

जाने गुरु पूर्णिमा क्यों  मनाया जाता है |
Share Button

गुरु पूर्णिमा हमारे देश की एक बहुत ही अच्छी परम्परा है | बहुत ही पुराने समय से चली आ रही यह परम्परा गुरु और उसके शिष्य की है | हम सब लोग को यहाँ पता है की बिना गुरु के ज्ञान मिलना बहुत ही मुश्किल है | तो गुरु पूर्णिमा को हम सब लोग अपने गुरु के लिए ब्रत रकते है और उनका आशीर्वाद लेकर अपने जीवन को धन्य बनाते है | गुर गोविन्द दोउ खड़े , काके लगे पाँव , बलिहारी गुरु आप ने गोविन्द दियो बताय | कभी…

Share Button
Read More

डर के आगे जीत है | जाने कैसे |

डर के आगे जीत है | जाने कैसे |
Share Button

हम सब लोगो के जीवन में एक समय ऐसा आता है जब हम लोगो को लगता है हम क्या कर रहे है | हम लोगो में बहुत से ऐसे लोग है जो बहुत मेहनत करते है और अपने सपनो को जी कर दिखा देते है | लेकिन हम से बहुत लोग ऐसे है जो हमेसा डर – डर के जीवन को जीते है | हम लोग को यही सबसे बड़ा कमजोरी होता है जो लोग इसको जान जाते है वो लोग अपने जीवन में बहुत ही आगे जाते है और…

Share Button
Read More

जब मन न लगे तब क्या करे |

जब मन न लगे तब क्या करे |
Share Button

बहुत टाइम हम सब लोगो के साथ ऐसा होता है की हम सब लोग बोर हो जाते है और तब हम सब लोगो से यही बात बोलते है की आज मेरा मन नहीं लग रहा है | मन न लगने का एक और भी कारण हो सकता है वो है आप किसी चीज को लेकर बहुत जायदा सोच रहे हो | एक चीज हमने सायद नहीं सोचा है जब हम लोगो का मन किसी भी काम मई नहीं लगता है तो हमको वो सब चीज अच्छी लगती है , जो…

Share Button
Read More

रेगिस्तान के खजाने की कहानी |

रेगिस्तान के खजाने की कहानी |
Share Button

इंसान अगर सोच ले की कुछ करना है तो उसको कोई भी रोक नहीं सकता है | बहुत ही पुरानी बात है दो दोस्त थे उनको कुछ अलग करने का हमेसा सौक चढ़ा रहता था | उसी नगर में एक राजा रहता था , जहा पर ये दोनों दोस्त रहते थे | राजा अपनी प्रजा को खुश देखने के लिए कुछ भी करने को तैयार था , एक दिन की बात है राजा को पता चला की राजस्थान के रेगिस्तान में सोना का ढेर है | राजा सुनकर बहुत ही…

Share Button
Read More

इंसान मतलबी होता चला जा रहा है | जाने क्यों ?

इंसान मतलबी होता चला जा रहा है | जाने क्यों ?
Share Button

सही बताऊ तो ऐसा कभी सोचा नहीं था की इंसान इतना मतलबी भी हो सकता है | एक दौर वह भी था जब लोग दुसरो के लिया जिया करते थे और देखते – ही देखते वक़त की ऐसी हवा चली की इंसान की इंसानियत ही ख़तम हो गयी | लोग जानवर की तारा हो गए है , सड़क पर कोई मर रहा है और मददत के लिए बुला रहा है | भीड़ में कोई भी ऐसा नहीं है जो रुकर एक बार उसकी बात सुन ले | किसी के पास…

Share Button
Read More