कैंसर से पीड़ित एक छोटी बच्ची की इमोशनल कहानी

Share Button

सही कहा गया है की इंसान के जीवन में हर समय एक जैसा नहीं होता है , कभी उसको कुछ करना होता है कभी उसको कुछ और ही मिल जाता है | आज मैं आप लोगो को एक ऐसी कहानी सुनाने जा रहा हूँ , जिसको सुनकर आप लोगो का मन मचल जायेगा |

रमन और उसकी पत्नी दोनों एक साथ एक छोटे से शहर में रहते है और दोनों बहुत ही खुश है | दोनों की एक छोटी सी बेटी भी है जिसका नाम रीमा है | आज शाम को रीमा जबसे स्कूल से वापस आयी है तबसे बहुत ही उदाश है और किसी से कुछ बोल नहीं रही है | कुछ देर बाद वो रोने लगती है और उसकी माँ बहुत पूछती है लेकिन वह कुछ नहीं बोलती है , इसके बाद रमन खुद आकर बोलता है |

अरे मेरी बेटी को क्या हो गया , वह और तेज रोने लगती है | रमन को लगता है की वह उसके पसंद का खिलौना नहीं लाया इसलिए वह रो रही है | फिर उसने बोला बेटा आप चुप हो जावो और खाना खा लो मैं कल आप की पसंद का खिलौना लाऊंगा | बेटी ने धीरे से रोटी हुए बोला मुझको खिलौना नहीं चाहिए , आप पहले मुझसे वादा करो की अगर मैं यह खाना खा लुंगी तो आप मेरी एक बात मानोगे | फिर क्या था बेटी के जिद के आगे रमन को झुकना पड़ा और वह बोला ठीक है आप खा लो आप जो बोलोगे मैं वह मान जाऊंगा |

रीमा ने रोते – रोते पूरा खाना खा लिया और उसके बाद बोला – पापा मैं अपने पुरे बाल साफ़ करना चाहती हूँ | पापा ने बोला – आप लड़की हो गंजे होकर आप अच्छी नहीं लगोगी और फिर स्कूल में भी आप कैसे जावोगे |रीमा ने बोला पापा आप को मेरी यह बात माननी पड़ेगी क्युकी आप ने वादा किया था | फिर क्या था रीमा ने अगले दिन सुबह -सुबह अपने पुरे बाल गंजे करवा लिया और फिर स्कूल गयी |

अगले दिन जब रीमा के पापा उसको स्कूल छोड़ने गए और वापस आ रहे थे तभी एक औरत ने आकर बोला साहब आप के बेटी ने ऐसा काम किया है , जिसकी मैं कल्पना भी नहीं कर सकती थी | रमन ने पूछा ऐसा क्या कर दिया | वह औरत रोते हुए बोली मेरी बेटी को कैंसर हो गया था , जिसकी वजह से वह अपने पुरे बाल गवा बैठी थी और वह स्कूल नहीं आना चाहती थी की सब लोग उसको स्कूल में मजाक बनाएंगे | लेकिन आप की बेटी खुद गंजी होकर स्कूल आयी तो साथ में मेरी बेटी भी आ गयी | उस औरत की पूरी बात सुनकर रमन की आँखों में आँशु आ गया और वो सोचने लगा की आज मेरी बेटी ने मुझको प्यार का मतलब सीखा दिया |

इसलिए कहा जाता है , कभी दुसरो के लिए कुछ करके देखो | जीवन में बहुत ही सुकून मिलता है | कहानी को सबके साथ जरूर शेयर करे |

एक चूहा की मोटिवेशनल कहानी

अन्धकार को क्यों धिक्कारे अच्छा है एक दीप जलाये

असफलता ही सफलता की जननी है

 दहेज़ प्रथा पर आधारित दिल को हिला देने वाली कहानी

कोयल और बगुला की कहानी

कैसे अपने अंदर की मानवता को जगाए

Share Button
loading...

Related posts

Leave a Comment