फटी चादर और बूढ़ी माँ की कहानी

old budhi ma ke kahani
Share Button

हम सब लोग जानते है की ठण्ड के मौसम में अकेले रहना बहुत ही मुश्किल काम होता है । आज की कहानी आप लोगो को बहुत ही अच्छी लगेगी , बात उन दिनों की है जब ठण्ड बहुत जायदा पद रहा था । सब लोग अपने बंद कमरों में आराम से सो रहे थे , लेकिन उसी ठण्ड में एक बूढ़ी माँ अपने बेटे के साथ एक फटी चादर में काँप रही थी । उसके पास एक ही चादर था और वो उसका बेटा ही उसे यूज़ करता था , एक दिन की बात है उसका बेटा पूछा माँ कब हम लोग की गरीबी दूर होगी ? क्या हम लोग ऐसी ही रहेंगे ?

जाल में फॅसे कबूतरों की कहानी | Unity Is Strength

 

अपने बेटे की इस तरह की बात सुनकर वह बूढ़ी माँ ने बोला नहीं बेटा एक दिन जब तुम बड़े हो जावोगे तो ढेर सारा पैसा कमाना और हम सब लोगो की गरीबी दूर हो जाएगी । अपनी माँ की इस बात को सुनकर उसका बेटा बहुत ही खुश हो गया और फिर अपने काम में लग गया ।बूढ़ी माँ अपने बेटे को पालने के लिए एक सेठ के यहाँ पर नौकरी करती थी , समय बीतता गया और एक दिन उस बूढ़ी माँ ने अपने सेठ से एक चादर मांगा । सेठ बहुत ही अच्छा था , उसने तुरंत एक चादर मँगा कर दे दिया , चादर पाकर बूढ़ी माँ बहुत ही खुश थी और बोली एक दिन मैं जरूर इस चादर की कीमत चुकाऊँगी । कुछ टाइम बाद बूढ़ी माँ का लड़का बड़ा हो गया और उसने काम करना बंद कर दिया , कुछ समय बाद उसी सेठ के यहाँ इसके बेटे की नौकरी लग गयी , लेकिन बूढ़ी माँ को पता नहीं था ।

 

लड़का बहुत अच्छा काम करता था , उसके काम को देख कर सेठ जी ने उसको एक चादर देने की बात कही । सेठ जी की यह बात सुनकर लड़का बोला , सेठ जी मैं यह चादर अपनी माँ के हाथो से ही लेना चाहता हूँ । सेठ जी ने कहा ठीक है , अगले दिन लड़का और सेठ जी उसके घर पर जा पहुंचे । सेठ को देखते ही उसकी माँ पहचान गयी और जब सेठ ने बूढ़ी माँ को चदर दिया तो बूढ़ी माँ ने कहा सेठ जी मैं यह चादर नहीं लुंगी । सेठ जी ने पूछ क्यों ?

गाजर से सीख – दो छोटे दोस्तों की कहानी

जाने गरीबी इंसान को क्यों तोड़ देती है | Emotional Hindi Kahani

बूढ़ी माँ ने बोला अभी तो एक चादर उधार हु मैं आप का , बूढ़ी माँ की यह बात सुनकर सेठ जी को याद आ गया सब कुछ और उन्होंने बोला वह कर्ज तो आप ने बहुत पहले ही उतार दिया था अपने इस होनहार बेटे को मेरे पास रख कर ।

सेठ की बात सुनकर बूढ़ी माँ बहुत ही खुश हुयी और बोली आप जैसा मालिक सबको दे भगवान् ।

इस कहानी से हम लोगो को यही सीख मिलता है की हम लोगो को कभी भी दुसरो के एहसानो को भूलना नहीं चाहिए ।
अगर कहानी अच्छी लगी हो तो शेयर जरूर करे ।

Share Button
loading...
loading...

Related posts

Leave a Comment