अकबर की आम के पेड़ वाली कहानी – Akbar ke kahani

Share Button

एक बार की बात है अकबर ने सोचा की आज हम देखते है की हमारे राजमहल के बाहर लोग क्या करते है | अकबर ने यह पता लगाने के लिए एक तरकीब  सोचा , उसने एक भिखारी का रूप बना कर नीकलने का सोच | अकबर अभी कुछ ही दूर चले थे की उनको रास्ते में एक बूढा आदमी आम का पेड़ लगता दीख गया | वह बूढा आदमी बहुत ही ज्यादा उम्र का लग रहा था , वह उसके पास गए और बोले बाबा आप यह आम का पेड़ क्यों लगा रहे हो | बूढ़े बाबा ने जबाब दिया की बेटा मे कुछ समझ नहीं पाया की तुम क्या कहना चाहते हो |

इस पर अकबर ने बोला – जबतक यह पेड़ बड़ा होगा तबतक तो आप जीवित नहीं रहोगे फिर भी आप यह आम का पेड़ लगा रहे हो | इस पर उस बूढ़े आदमी ने जबाब दिया – बेटा जब मे जवान था तब मैंने कोई आम का पेड़ नहीं लगाया था , लेकिन फिर भी हम ने आम खूब खाया | आप ने भी खूब खाया होगा , तो मैंने सोचा की कुछ आम का पेड़ लगा दू ताकी हमारे आने वाले बच्चे यह नहीं बोले की हमारे बड़ो ने कुछ किया नहीं |

पति और पत्नी के बलिदान की कहानी

यह बात सुनकर अकबर का दिल खुश हो गया और वह इस बात को समझ चूका था की हर चीज मे अपने स्वार्थ को नहीं देखना चाहिए |
हम लोग भी आज ऐसी ही बन गए है की हर चीज मे अपना फ्यूचर जरुर देखते है और सोचते भी है की इससे हम को लाभ होगा की नहीं | यदी हम को लाभ है तो हम उस काम को करते है और अगर हम लोगो को लाभ नहीं है तो हम लोग उस काम को नहीं करते है | तो दोस्तों इस कहानी से हम लोगो को यही सीख मिलती है की हर चीज मे अपना स्वार्थ मत देखा करे , कभे कुछ दूसरो के लिए भी किया करे |
आप लोगो को यह कहानी कैसी लगी कमेंट करके जरुर बताये |

Share Button
loading...

Related posts

One thought on “अकबर की आम के पेड़ वाली कहानी – Akbar ke kahani

  1. Great Story Thanks to share with us.

Leave a Comment