अहंकार का त्याग कैसे करे (How to leave your ego)

ahankaar-ka-tyaag
Share Button

अहंकार मानव का सबसे बड़ा दुश्मन है | अगर मानव को अहंकार नहीं होता तो वो कभी भी गलत रास्ते पर नहीं जाता और उसका पतन नहीं होता है |
अहंकार किसी भी तरह का हो वो उसको खा जाता है , जीवन मे जो लोग इसका त्याग कर देते है वही लोग आगे चलकर एक महान व्यक्ति बन पाते है |रावण के पास किसी भी चीज की कमी नहीं थी , वह बहुत बड़ा पंडित भी था लेकिन अहंकार ने उसका और पुरे लंका का विनाश कर दिया | अगर रावण अहंकार का त्याग कर राम से माफी भी मांग लेता तो सायद श्री राम जी उसको माफ़ कर देते और लंका का विनाश रुक जाता | इंसान कभी – कभी तो इतना अहंकार करने लगता है की उसको खुद मे भगवान नजर आने लगते है और वह खुद को भगवान् समझने लगता है |

दुर्योधन भी अहंकार का ही मारा था , अगर उसने अपना अहंकार छोड़ कर सब्र से काम लिये होते तो सायद वह जिन्दा बच जाता और इतना बड़ा महाभारत नहीं होता |आज तक जिन – जिन लोगो ने अहंकार को अपनी सकती बनाकर उपयोग किया है उनका पतन ही हुवा है | इंसान जब छोटा होता है तब उसकी इच्छा बहुत ही काम होती है और जैसे – जैसे वह बड़ा होता जाता है उसकी इच्छा और ज्यादा बढ़ती जाती है और एक दिन वह इतना धन कमा लेता है की अहंकार का सिकार हो जाता है | हम सब मानव है हम लोगों का कुछ भी यहाँ नहीं है और सब कुछ भगवान का दिया हुवा है तो हम लोगो को दूसरे के चीजो को बर्बाद कर देना अच्छी बात नहीं है | जब तक हम लोग अपने अंदर से अहंकार को हमेशा के लिए ख़त्म नहीं कर देंगे तब तक हम अपने आप को एक अच्छा मानव नहीं बोल सकते है |

Share Button

loading...
loading...

Related posts

5 thoughts on “अहंकार का त्याग कैसे करे (How to leave your ego)

  1. Nice article…..sach kaha aapne ki ahenkaar us aadmi ko nast kar deta hai jo ise apnata hai……thanks…..

  2. अहंकार का त्याग कैसे करे -: बहुत ही शानदार लेख

  3. बहुत ही सुंदर और सार्थक रचना की प्रस्‍तुति। अहंकार का हम सभी को त्‍याग करना चाहिए। पर मैं यहां एक बात और कहना चाहूंगा कि अहंकार और ईर्ष्‍या के बीच गहरा संबंध है। दोनों एक ही सिक्‍के के दो पहलू हैं। जैसे जैसे ईर्ष्‍या बढ़ती है वैसे वैसे अहंकार भी चरम स्‍तर पर पहुंचता जाता है।

  4. Very Inspirational Article , Sir

    1. hindibabu

      Thanks Gurwinder Je

Leave a Comment