वो दुःख वाले रात जब कोई साथ नहीं देता है – एक लड़की की कहानी

girls sad story in hindi
Share Button

हम सब के जीवन मे सुख और दुःख दोनों आते रहते है , कुछ लोगो को पहले सुख मिलता है और बाद मे दुःख और कुछ लोगो को इसके विपरीत | हम लोगो को अपने जीवन मे कभी भी घबराना नहीं चाहिए और हमेशा ही हीम्मत से काम लेना चाहिए | हम सब लोगो को यह बात पता है की इस दुनिया मे कोई न कुछ लेकर आया है और न ही कुछ लेकर जायेगा | तो सवाल यह आता है की आदमी , आदमी के काम क्यों नहीं आता है | आज मे आप लोगो को ऐसी ही एक कहानी बताने जा रहा हु जिसको सुनकर आप एक बार जरुर सोचंगे |
बात है रोहतक की , नीलम और उसकी माँ एक साथ रहते थे | नीलम अभी पंद्रह साल की है और अपने माँ से बहुत ही ज्यादा प्यार करती है | नीलम की माँ दूसरो के यहाँ काम करके अपना गुजारा किया करती थी |

युवा मन का दर्द – एक रोचक कहानी

एक दिन की बात है नीलम को बुखार चड़ गया , उसकी माँ उसको डॉक्टर के पास लेकर गयी तो पता चला की उसको डेंगू हो गया है | डॉक्टर ने पच्चास हज़ार माँगा , नीलम की माँ के पास कुछ गहने थे | उसने अपने गहनों को बेच दिया और कुल मिलाकर चालीश हज़ार ही हो पाया | नीलम की माँ ने डॉक्टर से बोला आप इतना ले लो और मेरी नीलम को बचा लो | लेकिन डॉक्टर ने बोला हम तो पुरे पैसे लेने के बाद ही एडमिट करते है , उसकी माँ रोती रही लेकिन कोई नहीं सुना | वह अपने मालकिन के पास गयी और उनको सारी बात बताया तो उसने भी बोला मे नहीं दूंगी इतना सारा पैसा | नीलम की माँ का रो – रो कर बुरा हाल हो गया था , पूरा दिन बीत गया और उसके बेटी की तबियत और खराब हो गयी | उसकी माँ ने पुरी रात कुछ भी नहीं खाया और कब सो गयी यह भी पता नहीं चला | सुबह जब वो सोकर उठी तो उसने देखा की नीलम अभी तो सोयी है , वह उसके पास जाकर उसके हाथ पकड़ा तो डर गयी और जोर से रोने लगी क्युकी नीलम मर चुकी थी | सिर्फ दस हज़ार रुपया के लिए किसी भी ने उसकी मदद नहीं किया और उसके बदले उसकी जान चली गयी |

दो विकलांगो की कहानी

दोस्तों कबतक हम लोग ऐसा करेंगे , पैसा ही सब कुछ नहीं होता है | आज नीलम के साथ है कल आप के साथ भी ऐसा हो सकता है , इसलिए दूसरो की मदद जरुर करे |

Share Button

loading...
loading...

Related posts

Leave a Comment