पंद्रह अगस्त क्यों मनाया जाता है| About Independence Day In HIndi

पंद्रह अगस्त क्यों मनाया जाता है| About Independence Day In HIndi
Share Button

पंद्रह अगस्त क्यों मनाया जाता है हम सब लोगो को यह बात बहुत ही अच्छे से पता है | यही वह दिन था जब अंग्रेज भारत को छोड़ कर भाग गए थे और उनको लगा था की अब हम और कुछ नहीं कर सकते है | इसी दिन को हम सब लोग आजादी का दिन मानते है | १५ अगस्त १९४७ को हमारा देश हमेसा के लिए आजाद हो गया था और तब से हम सब लोग अपनी आजादी का दिन बहुत ही धूम धाम से मानते है और मनाये…

Share Button
Read More

क्रांतिकारी रामप्रशाद बिस्मिल की कहानी

क्रांतिकारी रामप्रशाद बिस्मिल  की कहानी
Share Button

क्रांतिकारी रामप्रशाद बिस्मिल कारावास मे सजा भुगत रहे थे | अंग्रेजो ने उनको फांसी की सजा सुना दी थी , रामप्रशाद जी बहुत ही हिम्मत वाले क्रांतिकारी थे | उन्होंने दुसमन के  सामने कभी भी हार नहीं मानी | एक दिन उनके माता – पिता उनसे मिलने जेल मे गए , माता – पिता को देख कर बिस्मिल  की आँखों मे आँशु आ गए | परिश्रम का फल – जार्ज स्टीफेंस की कहानी उनकी आँखों मे आँशु देख उनकी माँ ने कहा – ये क्या तुम्हारा इंकलाब खत्म हो गया…

Share Button
Read More

कुछ याद उन्हें भी कर लो जो लौट कर घर न आये – अमर शहीदों की कहानी

कुछ याद उन्हें भी कर लो जो लौट कर घर न आये – अमर शहीदों की कहानी
Share Button

देश की आजादी के लिए अपना सर्वस्व नैछावर करने वाले अमर शहीद भगत सिंह , सुखदेव व राज गुरु को 1930 मे फाँसी का दंड मिला था | इन युवको को छुड़ाने के लिए हाई कोर्ट मे अपील की गयी परन्तु वह अमान्य हो गयी | प्रीवी कौंसिल मे भी अपील की गयी लेकिन कुछ नहीं हुवा | सरदार भगत सिंह तो ऐसी अपील के विरुद्ध थे | वह वीर तो मौत को भी हँसते – हँसते निमंत्रण देता था | फाँसी का दिन २४ मार्च सन 1931 को तय…

Share Button
Read More