फादर्स डे क्यों मनाया जाता है | Fathers Day Special in Hindi

फादर्स डे क्यों मनाया जाता है | Fathers Day Special in Hindi
Share Button

आज फादर्स डे है सोचा की आप लोगो के लिए कुछ लिख दू |पोस्ट अच्छा लगे तो शेयर जरूर करना | फादर्स डे क्यों मनाया जाता है आज मैं आप लोगो को एक रोचक बात बताता हूँ | यह परंपरा अमेरिका से सुरु हुवा था | सोनेरा नाम की एक छोटी सी बच्ची थी , जिसकी माँ का निधन बचपन में ही हो गया था और उसके पिता जी ने उसको कभी भी माँ की कमी मेहसूस नहीं होने दिया | जब यह लड़की थोड़ी और बड़ी हो गयी तो…

Share Button
Read More

एक चाय वाला कैसे वेब डेवलपर बन गया | About Software Engineerng |

एक चाय वाला कैसे वेब डेवलपर बन गया | About Software Engineerng |
Share Button

मेहनत किसी भी चीज का मोहताज नहीं होती है |यह बात बिलकुल ही सही है की मेहनत से काम करने वाला इंसान कभी भूखा नहीं रह सकता है| आज की कहानी यह है की राजू नाम का एक लड़का जो की छोटी सी उम्र मे ही एक जगह चाय बेचता था और आज वही चाय बेचने वाला एक वेब डेवलपर है | राजू शादी .कॉम मे एक वेब डेवलपर काम कर रहा है , इसकी जानकारी शादी .कॉम के सीईओ ने खुद ट्वीट करके दिया है | राजू चाय वाला…

Share Button
Read More

टेक्नोलॉजी के साथ अपडेट रहना क्यों बहुत जरुरी है |

टेक्नोलॉजी के साथ अपडेट रहना क्यों बहुत जरुरी है |
Share Button

हम सब लोग जाते है आज की दुनिया बहुत ही तेजी से आगे बढ़ रही है और टेक्नोलॉजी तो हर दिन कुछ न कुछ नया ला रही है | पहले जो काम हम लोग दस दिन मे करते थे आज वो काम एक दिन मे हो जाता है , तो है न दुनिया टेक्नोलॉजी की | हम बात करते है आज से दस साल पहले की जब हम लोगो मे कुछ लोगो मे कुछ लोगो के पास ही लैपटॉप और मोबाइल होता था | हमको गूगल के बारे मे बिलकुल…

Share Button
Read More

समय-समय की नही समझ-समझ की बात है। बचपन की यादे |

समय-समय की नही समझ-समझ की बात है। बचपन की यादे |
Share Button

एक वो दौर था जब पति भाभी को आवाज़ लगाकर अपने घर आने की खबर पत्नी को देता था,पत्नी की छनकती पायल और खनकते कंगन बड़े उतावलेपन के साथ पति का स्वागत करते थे। बाऊजी की बातों का ‘हाँ बाऊजी-जी बाऊजी’ के अलावा जवाब नही होता था। आज बेटा बाप से बड़ा हो गया, रिश्तों का केवल नाम रह गया। ये समय-समय की नही समझ-समझ की बात है। बीवी को तो दूर बड़ो के सामने हम अपने बच्चों तक को नही बतलाते थे। आज बड़े बैठे रहते है पर सिर्फ…

Share Button
Read More

जीवन को बदल देने वाले अनमोल वचन | Life Changing Quotes In Hindi

जीवन को बदल देने वाले अनमोल वचन | Life Changing Quotes In Hindi
Share Button

1-जीवन में जो सही काम करता है , वह हमेसा ही खुश रहता है | 2- समय सबका आता है , इसलिए किसी के बुरे समय में हसो मत | 3- जीवन बहुत ही अनमोल है , उसका सही से उपयोग करे | 4-आप का बुरा समय ही आप के अच्छे लोगो की पहचान करवाता है | 5-किसी को जबाब देना हो तो अपने काम से दो , सब लोग आप को कुछ भी कहना भूल जायेंगे | 6- जो लोग अपने माँ – बाप की आदर नहीं करते है…

Share Button
Read More

एक औरत का दर्द जो वो किसे और से नहीं कह सकती है |

एक औरत का दर्द जो वो किसे और से नहीं कह सकती है |
Share Button

बहुत कुछ होता हुआ देख कुछ लिखा मैने मेरी सोच समझ जितनी है उस हिसाब से….. न किसी कहानी के तौर पर लिखा है मै मेरी खुद की भाषाशैली का प्रयोग किया है।आखिर हम क्यो करें औरत की इज्जत क्या देती है, वो हमे क्या दिया उसने आजतक हमे हम तो शादी करके लाये है सारे काम करवायेंगे घर के, हम जो कहेंगे उसे करना पडेगा नौकरानी जो ठहरी, बच्चे पैदा करे झाड़ू ,बरतन कपडे, सास के ताने ननद की बाते पति की लातें सब सहे इत्यादि कार्य करे, हमारा…

Share Button
Read More

सफलता को कैसे संभाले | कपिल शर्मा की कहानी

सफलता को कैसे संभाले | कपिल शर्मा की कहानी
Share Button

आज मैं आप लोगो को एक बहुत ही अच्छी बात बताने जा रहा हूँ | हम सब लोग यह जानते है की हर इंसान अपने जीवन में सफल होना चाहता है और सफल होने के लिए वह सब कुछ करता है | कुछ लोग होते है जिनको बहुत ही जल्दी सफलता मिल जाती है और कुछ लोगो होते है थोड़े टाइम के बाद सफल होते है | आज मैं आप लोगो को यही बताऊंगा की सफलता पाने के बाद आप की जिम्मेदारी और भी बढ़ जाती है |सफलता को सही…

Share Button
Read More

समय का इंताजर – गौतम बुद्ध जी की कहानी |

समय का इंताजर – गौतम बुद्ध जी की कहानी |
Share Button

हम सब लोगो के जीवन में अच्छे और बुरे दोनों समय आते है | बस जरुरत होती है हर चीज को सही से समझ लेने की | बहुत ही पुराणी बात है एक गुरु जी थे जो की अपने शिष्यों को लेकर ज्ञान का प्रचार करने के लिए एक बहुत ही अजीब गांव में चले गए | उस गावँ में गुरु जे अपने कुछ शिष्यों को लेकर लोगो के बीच अपने ज्ञान और अनुभव को साझा किया | गुरु जी को पैदल ही चल कर ज्ञान का प्रचार करना था…

Share Button
Read More

एक मास्टरनी की कहानी |

एक मास्टरनी की कहानी |
Share Button

मैं और पिताजी चुपचाप माँ का दैनिक प्रवचन सुन रहे थे, “आप हमेशा उसका पक्ष लेते हैं। विनोद से क्या‌ कहें,वो तो है ही बीवी का गुलाम! एक काम ढंग से नहीं करती, बस पर्स लटकाया और चल दीं स्कूल। हर बात पर जवाब देती है। बहुत तेज़ है मास्टरनी!” मैं समझ नहीं पाती थी कि माँ को क्या खराब लगता है?भाभी का पर्स लटकाना, गलत बात पर जवाब देना या ‘मास्टरनी’ होना? घर के काम करती हैं, सबका ध्यान रखती हैं, फिर भी? 1- में तो ज्ञान का प्यासा हूँ…

Share Button
Read More

सत्य कथा – वो मुझे कमीनी का बेटा कहते, मैंने पढ़कर जवाब दिया |

सत्य कथा  – वो मुझे कमीनी का बेटा कहते, मैंने पढ़कर जवाब दिया |
Share Button

सत्य कथा ___ वो मुझे रंडी का बेटा कहते, मैंने पढ़कर जवाब दिया . 1980 के दशक में जब कोठों की संस्कृति समाप्त हो रही थी मैं मुंबई के कांग्रेस हाउस और कोलकाता की बंदूक गली में बड़ा हो रहा था जहां लोग नाचने वाली महिलाओं पर दस-दस के नोट उड़ाया करते थे. यहां काम करने वाली औरतों को कोई तवायफ़ कहता, कोई बैजी, कोठेवाली, कमानेवाली लेकिन सभी के लिए एक साझा शब्द रंडी भी इस्तेमाल किया जाता. नाचने वाली ये महिलाएं सेक्स वर्कर नहीं थी लेकिन उनके पास आने…

Share Button
Read More

भगवान् श्री कृष्ण की अनमोल कहानी |गोपियों का विरह |

भगवान् श्री कृष्ण की अनमोल कहानी |गोपियों का विरह |
Share Button

आज किशोरी का हृदय कुछ अधिक ही धड़क रहा है। कारण, माँ ने घर पर रोक कर रखा है कि लाली आज घनघोर बादल हैं। खेलने बाहर मत जा। कभी भीं वर्षा हो सकती है। पर उनको क्या पता कि ये मुए काले बादल और शिद्दत से कान्हा की याद दिलाते हैं उन्हें ! सोचने लगी, श्याम भी मेरे विरह में तड़प रहे होंगे ! हाय ! प्रिय को सताना अच्छा नही। चली जाती हूँ। मैया तो गहरी निद्रा में हैं। धीरे से द्वार खोला और पायल के घुंघरुओं को घूर कर…

Share Button
Read More

बारिश में जब उसकी याद आयी | बीते लम्हे जब याद आते है |

बारिश में जब उसकी याद आयी | बीते लम्हे जब याद आते है |
Share Button

बाहर बारिश हो रही है, झमझमा के, चाय बनाये है बॉलकोनी के बैठ कर चाय पीते हुए देख रहे थे इन बारिश के बूंदों को की अचानक से सब को किनारे करते हुए तुम्हारी याद आ गई, हमेशा की तरह यादों के दरवाजों धकेलते हुए जैसे जी ये आई सब रुक सा गया, बारिश की वो बूंद, चाय से उठती भाप और नीम के पेड़ की पत्तियां सब की सब.लगा जैसे जिंदगी फ़िर उसी मेज़ पर जा कर रुक गयी जहाँ तुम मिले थे मुझसे, बारिश की वो बूंद जो टिकी थी balcony…

Share Button
Read More

एक खुश किस्मत बहू की कहानी |

एक खुश किस्मत बहू की कहानी |
Share Button

मेरी मैरिज तय होने के समय से हीे मोबाइल पर बात होने लगी थी मेरी इनसे, अच्छे लगे थे मुझे ये, सुलझे हुए से….नेक इंसान । मैं अक्सर इनसे पूछती कि अगर मेरी और आपकी मां में कभी कोई झगड़ा हुआ तो आप किसका साथ देंगे, …..इनका जवाब होता ‘पता नहीं’। बस इस एक बात के अलावा मुझे ये बहुत अच्छे लगने लगे थे।जब मैं पहली बार इस घर में आई थी तो बहुत अजीब सा था सब। मेरे घर में सब कितना घुलमिल कर रहते, कभी कभी तो हम…

Share Button
Read More